असलम शेख का बीजेपी नेताओं पर पलटवार, पूछा- क्या एनसीबी के प्रवक्ता बन गए हो?

0
65
.
महाराष्ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री और कांग्रेस नेता असलम शेख ने भी सोमवार प्रेस कॉन्फ्रेंस लेकर बीजेपी नेताओं पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि बीते कई दिनों से महाराष्ट्र सरकार को बदनाम करने और गिराने की साजिश की जा रही है।
शपथ विधि के दिन से ही बीजेपी महाराष्ट्र सरकार को बदनाम करने की कोशिशों में जुटी हुई है। आपको बता दें कि नवाब मलिक ने असलम शेख का नाम लिया था और यह कहा था कि उन्हें भी क्रूज पर बुलाने की कई कोशिशें की गई थी,लेकिन वो नहीं गए।

मैं काशिफ को नहीं जानता
असलम शेख ने कहा कि मुझे भी क्रूज़ पर आने का निमंत्रण दिया गया था। यह निमंत्रण देने वाला शख्स काशिफ खान था,जिसे मैं जानता भी नहीं। उसके पास मेरा नंबर है या नहीं, मैं नहीं जानता। वह मुझे एक कार्यक्रम में मिला था, वहीं उसने मुझे आमंत्रित किया था। मैं मुंबई शहर का संरक्षक मंत्री हूं।

इसलिए कई सारे लोग और संगठन मुझे अपने कार्यक्रमों में बुलाते हैं। किसी के जन्मदिन या किसी की मैयत में भी जाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि आर्यन खान मामले में कोई षड्यंत्र है या नहीं। इसकी जांच अब दो एजेंसी कर रही हैं।

गुजरात की ड्रग्स पर कोई बात नहीं
असलम शेख ने कहा कि जब शुरुआत में यह मामला आया था, तब यह ड्रग्स का मामला था। लेकिन जब इस मामले में आर्यन खान का नाम आया, तब मीडिया ने इसे कवर करना शुरू किया। उन्होंने यह भी कहा कि गुजरात में मिली ड्रग्स पर कोई भी बात नहीं करता, लेकिन जिस व्यक्ति के पास नहीं मिला उसे जेल में कई दिन गुजारने पड़े।

शुशांत सिंह मामले का जिक्र
अखिलेश ने कहा कि आप पहले भी देखा है कि किस तरह से दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत के मामले को आत्महत्या की जगह हत्या करार देने में बीजेपी के नेताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और महाराष्ट्र सरकार को बदनाम करने की मुहिम शुरू की। मीडिया ने इस मुद्दे को बिहार चुनाव तक ही चलाया।

क्या किसी मीडिया के एडीटर ने माफी मांगी कि हमने इस मामले को आत्महत्या की जगह मर्डर केस की तरह चलाया। उन्होंने कहा कि फिलहाल जिस तरह से लोगों के बयान आ रहे हैं, अगर उनके पास किसी मंत्री या सरकार से जुड़े हुए कोई सबूत हैं तो उन्हें जनता के सामने रखें।

क्रूज को परमिशन नहीं
असलम शेख ने कहा कि क्रूज को परमिशन देने का काम राज्य सरकार का नहीं है। मेरे विभाग ने या महाराष्ट्र सरकार ने उसे अनुमति नहीं दी थी। इसका यह मतलब नहीं कि क्रूज नहीं चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि बीमार को नहीं बल्कि बीमारी को मारना चाहिए। बच्चों को नहीं बल्कि आरोपियों को सजा दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि 20 हज़ार करोड़ रुपए के ड्रग्स की बात की जानी चाहिए।

 

 

Source link

.