जल निगम भर्ती घोटाले में हुई पूर्व मंत्री आजम खां की पेशी, अगली सुनवाई 29 दिसम्बर को

0
94
.

जल निगम भर्ती घोटाले के मुख्य आरोपी और सपा सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां सोमवार को सीबीआई की विशेष अदालत के सामने पेश हुए। इससे पहले दो सुनवाइयों पर उन्हें कोर्ट ने तलब किया था, लेकिन बीमारी की वजह से वह हाजिर नही हुए थे।

जल निगम घोटाले में चार्जशीट दाखिल होने के बाद पहली बार आजम कोर्ट के सामने पेश हुए। इससे पहले वह हर तारीख पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पेश होते रहे। कोर्ट ने दो बार उन्हें मौजूद रहने का आदेश दिया लेकिन बीमारी की वजह से वह नही पहुँचे थे। चार महीने पहले आजम कोरोना संक्रमित हो गए थे। करीब एक महीने लखनऊ के मेदांता अस्पताल में उनका इलाज चला।

स्वस्थ्य होकर वह सीतापुर जेल पहुँचे तो फेफड़ों में दिक्कत की वजह से दोबारा उन्हें मेदांता लाया गया। CBI के विशेष न्यायाधीश ने मनोज पांडेय ने इस बार किसी भी हाल में उन्हें पेश होने का आदेश दिया था। सुबह 10 बजे आजम को सीतापुर जेल से लखनऊ कोर्ट लाया गया। करीब 3 घंटे की सुनवाई के बाद 1 बजे वह कोर्ट से वापस सीतापुर जेल ले जाये गए।

1342 पदों की भर्तियों में पाई गई थी अनियमितता

सपा सरकार में जल निगम में 1342 पदों पर हुई भर्तियों में अनियमितताएं पाई गई थी। योगी सरकार ने भर्ती प्रक्रिया की जांच एसआईटी से कराई तो 122 सहायक अभियंता, 853 अवर अभियंता, 335 लिपिक, 32 आशुलिपिकों की भर्ती में घोटाले के साक्ष्य मिले थे।

यह भर्तीयां आजम खां के नगर विकास मंत्री रहते हुए हुई थी। जांच रिपोर्ट में आजम को दोषी बताया गया था जिसके आधार पर एसआईटी ने उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके बाद मामले की जांच सीबीआई को दी गयी थी। एक मामले में चार्जशीट दाखिल हो चुकी है जिसमे आजम को आरोपी बनाया गया है।

 

Source link

.