UP UPDATES- मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह में फर्जीवाड़ा आया सामने,शादीशुदा जोड़ों की दोबारा कराई गई शादी,कई के तो बच्चे भी है

0
91
.

गोंडा में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह से फर्जीवाड़े का मामला सामने आया था। समारोह में शादीशुदा जोड़ों को बैठा कर एजेंट सरकारी पैसे से अपना खजाना भर रहे थे। मामला सामने आने के बाद जिला प्रशासन ने 3 लोगों की टीम बनाकर जांच शुरू कर दी है।

13 अक्टूबर को हुआ था शादी समारोह

शुरूआती जांच में सामने आया था कि ये फर्जीवाड़ा सरकारी कर्मचारियों और दलालों की मिलीभगत से किया जा रहा था। गौरा विधान सभा के छपिया विकास खंड में मनकापुर, छपिया और बभनजोत विकास खण्ड के 151 जोड़ों की शादी समाज कल्याण विभाग द्वारा मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत बीते 13 अक्टूबर को हुआ था। जिसमें करीब 12 जोड़ों की दुबारा शादी करवाई जा रही थी।

पैसों के लालच में दुबारा बैठ गए मंडप में

सामूहिक विवाह में बैठे जोड़े में से किसी की शादी 4 माह पहले हो चुकी थी, तो किसी की 2 माह पहले हुई थी। किसी जोड़े की 1 माह या एक 1 साल पहले तो किसी की 10 साल पहले शादी हो चुकी थी। कुछ के तो बच्चे भी थे। पैसों का लालच देकर दलालों और विभाग के अधिकारियों ने मिली भगत से इन जोड़ों को यहां बुला कर शादी कराई और दहेज में मिलने वाले सामान को खुद ही रख लिया।

3 लोगों की टीम का हुआ गठन

इस मामले में मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी ने बताया कि जिलाधिकारी ने 3 लोगों की जांच टीमों का गठन किया गया है। जिसमें प्रत्येक टीम में एक मजिस्ट्रेट, एक दूसरे विकास खंड का बीडीओ और एक जिला स्तरीय अधिकारी शामिल है। टीम ने जांच शुरू कर दी गई है। अभी रिपोर्ट नहीं आई है। रिपोर्ट आने पर कार्रवाई की जाएगी।

 

Source link

.