वन डिस्ट्रिक वन प्रोडक्ट के तहत आजमगढ़ जिले के निजामाबाद की ब्लैक पॉटरी पूरी,मिट्‌टी के बर्तन, सजावटी सामानों, करवा की धूम देश के कई बड़े राज्यों में है दुनिया में मशहूर

0
338
.

वन डिस्ट्रिक वन प्रोडक्ट के तहत आजमगढ़ जिले के निजामाबाद की ब्लैक पॉटरी पूरी दुनिया में मशहूर हैं। यहां पर बनने वाले मिट्‌टी के बर्तन, सजावटी सामानों, करवा की धूम देश के कई बड़े राज्यों में है। यही कारण है कि त्योहार आने से पहले ही यहां से बने उत्पाद दूसरे राज्यों में बिकने के लिए चले जाते हैं।

इस काम से यहां के कुम्हार खूब कमाई कर रहे हैं। निजामाबाद में लगभग 200 कुम्हार परिवार इस रोजगार से जुड़े हैं। और इसी से अपनी अजीविका चलाते हैं। इनमें से 90 प्रतिशत परिवार ऐसे हैं जो करवा बनाते हैं। सितम्बर माह से दूसरे राज्यों में करवाचौथ में प्रयोग होने वाला करवा व्यापारी ले जाने लगे।

निजामाबाद से अब तक 25 लाख करवा दूसरे राज्यों को भेजा जा चुका है। निजामाबाद में 4 परिवार ऐसे हैं जो बड़े पैमाने पर मिट्‌टी के बर्तनों का कारोबार करते हैं।

  30 प्रतिशत बढ़ा है व्यापार
विगत वर्ष कोरोना के कारण करवा का कारोबार कम हुआ था। पर इस वर्ष इस कारोबार में 30 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोत्तरी हुई है। यह हम लोगों के लिए शुभ संकेत है।   करवा का बाजार हम लोगों को खोजना नहीं पड़ता है। लोग चलकर हम लोगों के घर आते हैं और आर्डर दे जाते हैं। एक वर्ष में एक छोटा परिवार 50 से 60 हजार करवा बनाता है जबकि बड़ा परिवार 80 से 90 हजार करवा बनाता है।

साढ़े सात रूपए में होलसेल होता है करवा
रामजतन का कहना है कि निजामाबाद बाजार से एक करवा साढ़े सात रूपए की दर से बाजार जाता है। विगत वर्ष कोरोना के कारण बिचौलियों ने फायदा उठाया। बिचौलियों ने कारीगरों से पांच रूपए की दर पर करवा की खरीद की। जबकि बाजार में पहुंचते ही यही करवा 30 रूपए से लेकर 100 रूपए में बिकता है।

 

 

.