हथिनी मौत मामलाः पकड़ा गया एक आरोपी, पूछताछ में जुटी पुलिस

0
42
.

नई दिल्लीः केरल में कुछ शरारती तत्वों द्वारा एक हाथिनी को अन्ननास में बारूद भरकर खिला दिया गया था। जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई थी। इसका वीडियो वायरल होने के बाद पूरे देश में काफी रोष है। गर्भवती हथिनी की हत्या को लेकर पुलिस और वन विभाग की टीम जांच में जुट गई हैं। इस मामले में आज एक शक्स को गिरफ्तार किया गया है। वन मंत्री के राजू ने कहा कि हत्या में कई लोग शामिल थे और सभी लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा। पुलिस और वन विभाग जांच कर रही है।

बता दें कि केरल के मल्लपुरम जिले के एक गांव में गर्भवती हथिनी पहुंच गई। किसी ने हथिनी को अन्नानास में बरूद भरकर उसे खिला दिया। जिसकी जलन को शांत करने के लिए हथिनी वेलियार नदी में गई। वहां तीन दिन तक पानी में मुंह डाले खड़ी रही, लेकिन बारूद की जलन शायद कम नहीं हुई। जिससे हथिनी और उसके बच्चे की मौत हो गई।

पूरे देश में शोक

मूक जानवर की ऐसी हत्या पर देश अफसोस और पीड़ा की लहर है। जानवरों के लिए काम करने वाली बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने पूछा कि प्राइवेट हाथों में हाथियां होते क्यों हैं. हाथियों की मौत का सवाल नदी में उठे बुलबुले की तरह उठता था और मिट जाता था, लेकिन इस मौत ने उस सवाल को जिंदा कर दिया है।

READ : गुरुजी निकले घपलेबाज! एक साथ दो विवि में पढ़ा रहे शिक्षकों का भंडाफोड़

एक रिपोर्ट के मुताबिक, पालतू हाथी अब गिनती में कुल 507 रह गए थे, जिनमें 410 नर और 97 मादा हैं. साल 2017 में 17 हाथियों की मौत हुई, जबकि साल 2018 में 34 और साल 2019 में 14 हाथियों की मौत हुई. पहले हाथी पर संवेदनाओं के शब्द निकले, फिर अचानक वो सियासत में बदल गए.

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here