भारतीय क्रिकेटर के दिमाग में आया बालकनी से कूदने का खयाल, इस वजह से बच गई जान

0
10

नई दिल्ली। बॉलीवुड के मशहूर एक्टर सुशांत सिंह राजपूत  ने रविवार को अपने घर पर फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली। पुलिस के मुताबिक वो पिछले कुछ समय से डिप्रेशन थे, लेकिन पुलिस की जांच पड़ताल अभी खत्म नहीं हुई है। आपको बतादें कि मुंबई पुलिस उनकी मौत का असली कारण पता लगाने में लगी हुई है। सुशांत के निधन के बाद एक बार फिर डिप्रेशन का मुद्दा उठ चुका है. मानिसक स्‍वास्‍थ्‍य पर लगातार चर्चा हो रही है। भारत को 2007 में पहला टी20 वर्ल्‍ड कप जीताने में अहम भूमिका निभाने वाले खिलाड़ी रॉबिन उथप्‍पा  को भी सुशांत की खबर से गहरा झटका लगा है। उन्‍होंने इस पर शोक जताते हुए एक ऐसी बात कही जिसने सबको हैरान कर दिया।

रॉबिन उथप्‍पा ने बताया कि वे खुद दो साल तक डिप्रेशन के शिकार रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके मन में भी बालकनी से कूदकर जान देने का विचार आया था। सुशांत की मौत पर उथप्‍पा ने कहा कि यह समझ के परे हैरानीभरा है। हम उस दर्द की कल्‍पना नहीं कर सकते, जिससे सुशांत आप जूझ रहे थे।

 मन में जो भी हो उसपर खुस कर बात करें

रॉबिन उथप्‍पा का कहना है कि अगर आप ठीक महसूस नहीं कर रहे हैं तो आप किसी से उस मुद्दे पर खुलकर बात करें। किसी बात को अंदर दबाने से दिमाग पर बेहद गलत असर पड़ता है। उन्‍होंने कहा कि मैं इसे बार बार नहीं दोहरा सकता। हम जो महसूस कर रहे हैं, उसके बारे में बात करने की जरूरत है। हम जितना समझते हैं, उससे ज्‍यादा मजबूत होते हैं।

ये भी पढ़ें: WEATHER: लखनऊ में मौसम हुआ खुशनुमा, 21 जिलों में आ सकती है आंधी-बारिश

दो साल तक डिप्रेशन में रहे रॉबिन उथप्पा   

कुछ समय पहले ही रॉबिन उथप्‍पा ने खुलासा किया था कि 2009 से 2011 के बीच वह आत्‍महत्‍या के विचारों से जूझते रहे थे क्योंकि वो डिप्रेशन के शिकार हो चुके थे। उन्होंने बताया कि उस समय क्रिकेट ही एकमात्र वजह थी कि जिसने उन्‍हें बालकनी से कूदने से रोका था। उन्‍होंने कहा कि उस मुश्किल घड़ी में वह इधर उधर बैठकर सिर्फ यही सोचते थे कि दौड़कर जाएं और बालकनी से कूद जाएं। मगर किसी चीज ने उन्‍हें रोके रखा। इसके बाद उन्‍होंने डायरी लिखनी शुरू की और एक इंसान के तौर पर खुद को समझना शुरू किया, जो बेहद जरूरी है। उन्‍होंने बाहरी मदद ली, ताकि वो अपना जीवन बदल सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here