‘चोरी ऊपर से सीना जोरी’ कर रहा चीन, भारत को बताया सीमा पर हुई हिंसा का जिम्मेदार

0
56
.

बीजिंग। भारत-चीन सीमा पर अभी भी तनाव जारी है। बड़े दुख की बात है कि हमारी सेना के 3 जवान शहीद हो गए। आपके बतादें कि भारत-चीन सीमा पर विवाद के बीच लद्दाख सीमा  पर चीनी सेना के साथ हुई झड़प में भारतीय सेना  के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं। इस घटना को चीन ने भी गंभीरता से लेते हुए भारत से अपील की है कि फ़िलहाल जल्दबाजी में कोई कदम न उठाएं। चीनी विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि वो पूरे मामले को लेकर गंभीर हैं लेकिन भारत से अपील करते हैं कि वो एकतरफा कार्रवाई जैसा कदम न उठाएं ।

सूत्रों के मुताबिक लद्दाख सीमा पर भारत-चीन के बीच स्थिति काफी तनावपूर्ण बनी हुई है। पिछले काफी समय से तनाव जारी है। फ़िलहाल दोनों सेनाओं के अधिकारियों की मीटिंग हो रही है। इससे पहले मंगलवार सुबह चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा था, कि सीमा विवाद पर दोनों देशों के बीच बातचीत काफी सकारात्मक है और जल्द ही कोई निवारण होगा। बतादें कि भारतीय सेना की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है, ‘गलवान घाटी में डि-एस्केलेशन प्रक्रिया के दौरान बीती रात दोनों सेनाओं का आमना-सामना हो गया, जिसमें हमारे जवान शहीद हुए है।

चीन ने भारत पर लगाया आरोप

भारत से शांति की विनती करने वाले चीन उलटा भारत को ही दोषी करार कर रहा है। चीन का कहना है कि इस हिंसा का जिम्मेदार भारत है। बतादें कि चीनी सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स के जरिए भारतीय सेना पर सीमा पार कर समझौते के उल्लंघन का आरोप लगाया गया है। चीन ने आरोप लगाया है कि भारतीय सेना के जवानों ने दो बार सीमा पार करने की कोशिश की जिसके बाद पूरा मामला हिंसक हो गया था। चीन ने भारत से अपील की है कि उसे अपनी सेना को समझौते के मुताबिक सीमा पार करने से रोकना चाहिए जिससे इस तरह की हिंसा से बचाओ हो सके।

ये भी पढ़ें: 

अभी भी जारी है तनाव

सोमवार रात भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प में भारत के एक कर्नल और दो जवान शहीद हो गए। इस झ़ड़प में जो कर्नल शहीद हुए हैं  वे इन्फैंट्री बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर थे। भारत-चीन सीमा पर 45 साल यानी 1975 के बाद ऐसे हालात फिर से बने हैं, जब भारत के जवानों की शहादत हुई है। दोनों देशों के बीच 41 दिन से सीमा पर तनाव जारी है और इसकी शुरुआत 5 मई से हुई थी। 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here