फर्जी शिक्षिकाओं का खेल चौपट, अब प्राइमरी से लेकर यूनिवर्सिटी टीचर्स तक का अंगूठा लगाना अनिवार्य

0
49
.

लखनऊ  अनामिका शुक्ला के नाम पर यूपी के अलग अलग जिलों के विद्यालय में नौकरी कर रहीं फर्जी शिक्षिकाओं का नाम सामने आने का सिलसिला अभी तक जारी है। इसी के साथ प्राइमरी स्कूलों में भी फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर नौकरी कर रहे शिक्षकों की गिरफ़्तारी भी लगातार की जा रही है। फर्जी शिक्षिकाओं के मामले में यूपी एसटीएफ लगातार छानबीन कर रही है।

कंटेनमेंट जोन से बाहर होने के बावजूद इलाके से नहीं हटाई गई बैरिकेडिंग, स्थानीय लोगों की नहीं हो रही सुनवाई

आपको बतादें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले का गंभीरता से संज्ञान लेते हुए यूपी के साढ़े छह लाख शिक्षकों के डाक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन का आदेश दिया है। डाक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन के साथ ही अब यूपी के सभी शिक्षकों को अपने थंब इम्प्रैशन के साथ प्रमाण पत्रों की जांच 31 जुलाई तक पूरी करनी होगी। डाक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन के दौरान अगर कोई भी फर्जी पाया जाए तो उनपर सख्त कार्रवाई के निर्देश सीएम योगी ने दिए हैं। आपको बता दें कि प्रदेश के इन संस्थानों में मौजूदा वक्त में 6.53 लाख शिक्षक कार्यरत हैं।

बाबा रामदेव की बढ़ सकती है मुसीबत, कोरोना मरीजों की हालत गंभीर होने पर दी एलोपैथिक दवाई

अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि अनामिका शुक्ला मामला सामने आने के बाद से ही बेसिक शिक्षा विभाग में मानव संपदा पोर्टल के माध्यम से दस्तावेजों की जांच शुरू हो चुकी है। इसके लिए नोडल अफसर भी बनाए गए हैं। सभी शिक्षकों की सर्विस बुक व मार्कशीट अपलोड कर दी गई है।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here