डिप्रेशन से बाहर लाने में मददगार हैं ये औष्धियां, इनके सेवन से दूर होगी बेचैनी

0
112
.

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने डिप्रेशन की वजह से पिछले दिनों आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया था. उनकी मौत के बाद से ही यह मुद्दा चल रहा है कि मानसिक स्वास्थ्य को देश में अक्सर अनदेखा किया जाता है. किसी व्यक्ति को महसूस हो रही बेचैनी पर किसी का ध्यान नहीं जाता है जो कि गंभीर हो सकती है. हालांकि, आजकल यह अच्छा संकेत है कि लोग मानसिक स्वास्थ्य के बारे में चर्चा कर रहे हैं और इस संबंध में ध्यान भी रख रहे हैं.

एम्स के डॉ. उमर अफरोज का कहना है कि कई लोगों को समय-समय पर मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं. जो आगे चलकर मानसिक बीमारी बन जाती है. इसके लक्षण अक्सर तनाव पैदा करते हैं और कार्य क्षमता को प्रभावित करते हैं. ऐसी कई चीजें हैं जो मानसिक और भावनात्मक रूप से बेचैन करने वाली भावना को ठीक करने में मदद कर सकती हैं, वहीं कुछ जड़ी-बूटियां भी हैं जो ऐसे लोगों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए बड़े काम की साबित हो सकती हैं.

अश्वगंधा 

अश्वगंधा यहां एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. कई अध्ययनों से पता चला है कि अश्वगंधा तनाव और बेचैनी महसूस करने वाले लोगों में लक्षणों को कम कर सकता है. myUpchar के डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि पशुओं में अश्वगंधा के प्रयोग से तनाव के स्तर में भी उल्लेखनीय कमी आई है. अध्ययन से पता चलता है कि इसे लेने से चूहों के दिमाग में केमिकल सिग्नल पहुंचने से तनाव नहीं रहता. कुछ मनुष्यों पर जांच करने से पता चला है कि अश्वगंधा लेने से तनाव और चिंता की समस्या बहुत कम हो जाती है. अश्वगंधा का सेवन टेबलेट के रूप में या तरल रूप में किया जा सकता है.

पुदीना

पुदीना भी एक बहुत प्रभावी जड़ी-बूटी है, जिसका उपयोग भोजन और पेय पदार्थों में किया जाता है. इसके सेवन से बेचैनी कम हो सकती है. यह शरीर और मन पर ठंडा और शांत प्रभाव छोड़ता है, जिसकी मुख्य वजह इसमें मौजूद मेन्थॉल है. पुदीना तनाव मुक्त करता ही है, साथ ही मानसिक थकान भी दूर करता है. पुदीना के तेल यानी पेपरमिंट ऑयल भी मददगार हो सकता है. अगर तनाव महसूस कर रहे हों तो एक रुमाल पर पुदीने के तेल की कुछ बूंदें गिराएं और उसकी महक सूंघकर अच्छा महसूस करें.

ऐप बैन पर बोलीं निकी हेली- भारत ने दिखाया, वो चीन के रवैये के आगे झुकेगा नहीं

कैमोमाइल

कैमोमाइल भी उन जड़ी-बूटियों में से एक है जो बेचैन और असहज महसूस होने वाली भावना को ठीक कर सकती है. यह फूल वाली जड़ी-बूटी तनाव को दूर करने में मदद कर सकती है. कुछ लोगों को कैमोमाइल से एलर्जी भी हो सकती है. इसलिए अपने डॉक्टर से पहले सलाह लेना बहुत जरूरी है. कैमोमाइल चाय शरीर में सेरोटोनिन और मेलाटोनिन के स्तर को बढ़ाने में सहायता करती है जो तनाव और चिंता को दूर करती है.

लैवेंडर

लैवेंडर कई गुणों से भरी हुई जड़ी-बूटी है. इसके तेल में पुष्प घास की सुगंध होती है जो मन और शरीर को आराम देती है और ताजा महसूस कराती है. यह चिंता और पैनिक अटैक को कम करने में मदद करती है. यह दिमाग में चिंता बढ़ाने वाली स्थितियों को कम करती है. लैवेंडर तेल में टेरपेनस लिनालूल और लिनालिल एसीटेट नामक रसायन होते हैं, जो मस्तिष्क में केमिकल रिसेप्टर्स पर एक शांत प्रभाव डाल सकते हैं. चाय में लैवेंडर का उपयोग कर सकते हैं या लैवेंडर तेल की कुछ बूंदें पानी में डाल स्नान कर सकते हैं.

Authors

.