कोरोना वायरस को लेकर नया दावा, 14 नहीं इतने दिनों तक शरीर में रह सकता है वायरस | health – News in Hindi

0
59
कोरोना वायरस को लेकर नया दावा, 14 नहीं इतने दिनों तक शरीर में रह सकता है वायरस

कोरोना वायरस से निपटने के लिए सभी राज्यों में विशेष टास्क फोर्स का गठन किया गया है.

कोरोना वायरस (Corona virus) से निपटने के लिए देश के सभी राज्यों में विशेष टास्क फोर्स (Special task force) का गठन किया गया है, जो संक्रमित मरीजों के इलाज और अन्य चीजों की निगरानी करेगा.

कोरोना वायरस (Corona virus) की कोई वैक्सीन (vaccine) अभी तक नहीं बन पाई हैं. वहीं ये महामारी दुनिया भर में तेजी से बढ़ रही है. शनिवार को भारत में रिकार्ड 22 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं. मरीजों के मिलने का ये आंकड़ा परेशान करने वाला है. कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश के सभी राज्यों में विशेष टास्क फोर्स (Special task force) का गठन किया गया है. इससे संक्रमित मरीजों के इलाज और उसमें लगने वाले समय के साथ-साथ अन्य चीजों पर भी निगरानी रखी जा सकेगी. इसी टास्क फोर्स के एक सदस्य का कहना है कि कोरोना वायरस का संक्रमण 14 दिन नहीं बल्कि इससे ज्यादा दिनों तक शरीर में रह सकता है. आइए इसके बारे में जानते हैं…

मुंबई मिरर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, टास्क फोर्स के सदस्य का कहना है कि वायरस से संक्रमित कुछ मरीज ऐसे भी हैं, जिनमें 14 दिन से अधिक समय तक कोरोना वायरस के लक्षण मौजूद थे. पहले ये मान लिया गया था कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज 14 दिनों के बाद पूरी तरह से ठीक हो चुका होगा, जबकि ऐसा नहीं था. जांच के दौरान पता चला कि कोरोना वायरस को अपना साइकल पूरा करने में 28 दिन का समय लग सकता है.

मानसून में भूलकर भी न करें ये 10 गलतियां वरना पड़ सकते हैं बीमार

टास्क फोर्स के सदस्य ने बताया कि संक्रमित मरीजों में 14 दिनों के बाद साइटोकीन स्टॉर्म भी देखने को मिला है. नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट के मुताबिक, यह एक गंभीर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया है, जिसमें शरीर बहुत अधिक साइटोकिन्स को बहुत जल्दी खून में छोड़ देता है.साइटोकिन्स सामान्य प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, लेकिन शरीर में बड़ी मात्रा में इनका एक ही बार में रिलीज होना हानिकारक हो सकता है. ये साइटोकिन्स संक्रमण, ऑटोइम्यून स्थिति या अन्य बीमारियों के परिणामस्वरूप हो सकता है.पूरी तरह से प्रमाणिक नहीं है ये दावा
यह बात पूरी तरह से सिद्ध नहीं हुई है कि कोरोना संक्रमित सभी मरीजों के शरीर में 28 दिन तक यह वायरस रहता है या नहीं. टास्क फोर्स के सदस्य ने जो बताया उससे लगता है कि संक्रमित मरीजों से कम से कम 28 दिन तक दूर रहना ही बेहतर है. हालांकि फिर भी बेहतर होगा कि आप कुछ भी करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें और उनकी बताई गई बातों का ही गंभीरता से पालन करें.

First published: July 4, 2020, 9:23 PM IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here