मां को बचाने के लिए स्वास्‍थ्य केंद्र के बाहर चिल्लाता रहा बेटा, नहीं खुला दरवाजा और चल बसी मां, देखें Video | hardoi – News in Hindi

0
130
मां को बचाने के लिए स्वास्‍थ्य केंद्र के बाहर चिल्लाता रहा बेटा, नहीं खुला दरवाजा और चल बसी मां, देखें Video

अंततः नहीं खुला स्वास्थ्य केंद्र का दरवाजा. चल बसी घायल मां के पास बिलखता बेटा.

बेटे के साथ बाइक पर जा रही बुजुर्ग महिला हादसे में हो गई थीं घायल. बेटे ने एंबुलेंस को फोन किया, पर एंबुलेंस नहीं आया. इसके बाद युवक अपनी मां को गोद में उठाकर पैदल ही अस्पताल के लिए चल दिया.

हरदोई. हरदोई (Hardoi) जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (Community Health Center) का दरवाजा नहीं खुला और एक महिला मरीज की मौत हो गई. किसी ने इसका वीडियो (Video) बनाकर सोशल मीडिया (Social Media) पर अपलोड कर दिया, जो काफी वायरल (Viral) हो रहा है. वीडियो में देखा जा सकता है कि एक बुजुर्ग महिला को स्वास्थ्य केंद्र के बाहर जमीन पर लिटाकर एक युवक स्वास्थ्य केंद्र का दरवाजा खोलने के लिए लगातार आवाज दे रहा है. वह स्वास्थ्य केंद्र की खिड़कियों से अंदर झांक रहा है कि कोई दिख जाए तो उसे दरवाजा खोलने के लिए कहूं. वह इस उम्मीद में स्वास्थ्य केंद्र के पिछले हिस्से में भी जाता है कि शायद उस तरफ कोई कर्मचारी दिख जाए और वह दरवाजा खुलवा सके. पर अंततः दरवाजा नहीं खुलता और वहीं बाहर महिला की मौत हो जाती है.

मामला 30 जून का

मामला 30 जून का बताया जा रहा है. वीडियो वायरल होने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच हुआ है. मामला जिले के सवायजपुर सामुदायिक केंद्र से जुड़ा हुआ है. सड़क हादसे में घायल एक महिला को उसका बेटा किसी तरह से बाइक से लेकर सवायजपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा. स्वास्थ्य केंद्र के गेट पर अपनी मां को लिटाकर युवक डॉक्टरों को बुलाने लगा और काफी देर आवाज देने के बाद भी कोई डॉक्टर नहीं आया. इस दौरान घायल महिला तड़प रही थी. घटना का किसी ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया.
चतरखा गांव की रहनेवाली थीं महिला, दुर्घटना में हुई थीं घायल

हरदोई जिले के सांडी ब्लाक के चतरखा गांव की रहने वाली 62 वर्षीया बुजुर्ग महिला अपने बेटे सोनू सिंह के साथ बाइक से फर्रुखाबाद जा रही थीं. रास्ते में पीछे से एक तेज रफ्तार बाइक सवार ने उन्हें जोरदार टक्कर मार दी. हादसे में बुजुर्ग महिला घायल हो गईं. तब उनके बेटे ने एंबुलेंस को फोन किया, लेकिन एंबुलेंस नहीं आया. इसके बाद युवक अपनी मां को गोद में उठाकर पैदल ही अस्पताल के लिए चल दिया. थोड़ी दूर जाने पर एक बाइक सवार युवक ने दोनों को सवायजपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया.

स्वास्थ्य विभाग का दावा

वहीं स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि सामुदायिक केंद्र के बंद होने के समय मरीज वहां पहुंचा था. ऐसे में वहां का मुख्य गेट बंद रहता है, जबकि पीछे के रास्ते से मरीजों को देखा जाता है. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार वह केंद्र के गेट तक नहीं पहुंचा था, जिस कारण मेडिकल स्टाफ को जानकारी नहीं हुई. हालांकि वीडियो में दिख रहा है कि युवक घायल तड़पती हुई मां के लिए अस्पताल में चक्कर लगाता रहा, लेकिन यहां कोई भी डॉक्टर नर्स उसका हाल लेने नही आए, काफी देर बाद महिला की हालत और गम्भीर हो गई थी. घटना का वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

First published: July 4, 2020, 6:36 PM IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here