झांसी: कोरोना से हुई पिता की मौत, अंतिम संस्कार के लिए बेटे ने लिया बेगानों का सहारा | jhansi – News in Hindi

0
133
झांसी: कोरोना से हुई पिता की मौत, अंतिम संस्कार के लिए बेटे ने लिया बेगानों का सहारा

अंतिम संस्कार के लिए बेटे ने लिया बेगानों का सहारा (file photo)

वृद्ध के बेटे ने इसकी सूचना रिश्तेदारों व आसपास के लोगों को दी. लेकिन, कोई आगे नहीं आया. सभी को आशंका थी कि वृृद्ध की मौत कोरोना वायरस (corona virus) के संक्रमण की चपेट में आ सकते हैं.

झांसी. उत्‍तर प्रदेश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर जारी है. इसी कड़ी में यूपी के झांसी (Jhansi) में बेहद चौंका देने वाला मामला सामने आया है. जहां एक बेटे को अपने पिता के शव को श्मशान घाट तक ले जाने के लिए बाहरी लोगों का सहारा लेना पड़ा. जब कोई पड़ोसी और रिश्तेदार नहीं आया तो उसने कदम उठाया. दरअसल मृतक के कोरोना पॉजिटिव (corona positive) होने के चलते मुहल्ले वालों से लेकर रिश्तेदार तक अंतिम संस्कार में शामिल होने से मना कर दिया. कोरोना पॉजिटिव पिता की मौत के बाद परिजनों में कोहराम मच गया था.

बता दें कि महानगर की पुरानी बस्ती के रहने वाले एक लगभग 70 वर्षीय व्यक्ति की शुक्रवार की सुबह मौत हो गई थी. मृतक के घर के पास ही पिछले दिनों दो कोरोना पॉजिटिव केस पाए गए थे, जिसके चलते आसपास के तमाम लोगों के स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कोरोना सैंपल लिए थे. इसमें इस वृद्ध का भी सैंपल लिया गया था. लेकिन, रिपोर्ट आने से पहले ही वृद्ध की मौत हो गई. वृद्ध के बेटे ने इसकी सूचना रिश्तेदारों व आसपास के लोगों को दी. लेकिन, कोई आगे नहीं आया. सभी को आशंका थी कि वृृद्ध की मौत कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आ सकते हैं.

Kanpur Shootout: पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, CO के चेहरे-सीने पर सटाकर मारी गोली, धारदार हथियार से भी वार

सूत्रों के मुताबिक मृतक के परिजन ने बाहरी लोगों को अंतिम संस्कार के लिए बुलाया. बताया जा रहा है कि पॉजिटिव व्यक्ति की मौत के बाद मृतक के परिजनों ने अपने ही परिजन से दूरी बनाते हुए उसका अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया. इसके बाद बेटे ने अपने पिता का अंतिम संस्कार करने के लिए चार बाहरी लोगों को बुलाया. जिनको पीपी किट पहनाकर कोरोना पॉजिटिव पिता का अंतिम संस्कार बेटे ने करवाया. जबकि, पुत्र ने बगैर पीपीई किट के ही पिता को मुखाग्नि दी. यह घटना दिन भर महानगर में चर्चा के केंद्र में बनी रही. जिसने भी सुनी, उसकी आंखें नम हो उठीं.

First published: July 5, 2020, 5:48 PM IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here