होर्मोनल इम्बैलेंस भी हो सकता है डिप्रेशन का कारण, खुद का ऐसे करें बचाव | health – News in Hindi

0
69
.
होर्मोनल इम्बैलेंस भी हो सकता है डिप्रेशन का कारण, खुद का ऐसे करें बचाव

हार्मोन्स में असंतुलन होने से आदमी अजीब तरह का व्यवहार करने लगता है.

हार्मोन्स में असंतुलन (Hormonal imbalance) के कारण भी आदमी अवसाद (Depression) में जा सकता है. हार्मोन्स में असंतुलन होने से आदमी अजीब तरह का व्यवहार करने लगता है.




  • Last Updated:
    July 7, 2020, 5:26 PM IST

भागदौड़ भरी जिंदगी में खुद को अकेला महसूस करना आदमी को उदासी ओर ले जाता है. अकेले रहने से आदमी के अंदर नकारात्मकता आ जाती है और वे हर समय खुद को कमजोर महसूस करने लगता है. ऐसे में उन्हें लगता है कि दुनिया में उनका कोई नहीं है. आदमी के अंदर अब तक जो अकेलापन घर कर गया है यह इंसान को अंदर ही अंदर कचोटता रहता है. आखिर में आदमी ऐसी अवस्था में जा पहुंचते हैं, जब वो अपने आप से ही नफरत करने लगता है. ऐसे में इंसान कोई ऐसा कदम उठा लेता हैं, जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता है. इंसान में ऐसे लक्षणों को अवसाद (डिप्रेशन) कहते हैं. आइए जानते हैं कि इंसान को डिप्रेशन क्यों होता है…

हार्मोन में गड़बड़ी
myUpchar से जुड़ीं डॉ. मेधावी अग्रवाल बताती हैं कि हार्मोन्स में असंतुलन होने के कारण भी आदमी अवसाद में जा सकता है. शरीर के सभी अंगों में परिवर्तन का एक बड़ा कारण हार्मोन्स असंतुलन होता है, जिसके कारण व्यक्ति अजीब तरह का व्यवहार करने लगता है. ऐसे व्यक्ति को ज्यादातर सकारात्मक माहौल में रहने का प्रयास करना चाहिए.

शारीरिक असुंदरताकई लोगों के अंदर उनके छोटे कद, सांवले रूप या शरीर की अजीब सी बनावट के कारण भी हीन भावना पनपने लगती है. इसके अलावा ऑफिस में साथियों के द्वारा किसी को हमेशा कमजोर और अयोग्य दिखाने पर भी आदमी अवसाद का शिकार हो जाता है.

आनुवंशिक कारण
अवसाद भी अन्य तरह की आनुवंशिक बीमाररियों की तरह है. यदि किसी के परिवार में कोई सदस्य डिप्रेशन से ग्रसित है, तो भविष्य में उनके बच्चों को भी 70 फीसद तक डिप्रेशन होने की संभावना हो सकती है. कई शोध में ये खुलासा हो चुका है कि माता-पिता के आनुवंशिक व्यवहार का बच्चों पर भी काफी असर पड़ता है.

अन्य कारण
डिप्रेशन होने के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे अचानक कोई अनचाही घटना होना, घर में अजीब वातावरण का होना, किसी नजदीक व्यक्ति की अचानक मौत होना. किसी नजदीकी का बिछड़ जाना या आत्म सम्मान को ठेस पहुंचना. इसके अलावा और भी कई कारणों से लोग डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं.

ऐसे निकल सकते हैं डिप्रेशन से बाहर
अवसाद से ग्रसित लोगों को अपने रिश्तेदारों और अपने दोस्तों के साथ ज्यादा समय व्यतीत करना चाहिए. इसके अलावा अपने किसी खास व्यक्ति से अपने दिल की बात करनी चाहिए, ताकि वे उनकी मदद कर सकें. सायकोलॉजिस्ट से भी परामर्श लेते रहना चाहिए और अपनी दिनचर्या में भी परिवर्तन लाना चाहिए. जैसे- नियमित व्यायाम, प्राणायाम करने और पोषणयुक्त भोजन करने से भी अवसाद की बीमारी दूर होती है. डिप्रेशन के शिकार लोगों के परिवार के सदस्यों को भी उनका समर्थन करते रहना चाहिए ताकि उन्हें अच्छा लगे.

डिप्रेशन से ग्रसित लोग ध्यान रखें ये बातें
अवसाद से ग्रस्त लोगों को किसी भी हाल में कोई गलत कदम उठाने के बारे में नहीं सोचना चाहिए. यदि कभी कोई भी ऐसा नकारात्मक विचार मन में आये तो डॉक्टर से बात करना चाहिए. डॉक्टर उनकी हर तरह से मदद करने की कोशिश करेंगे और उन्हें डिप्रेशन से बाहर निकालने की कोशिश करेंगे. अवसाद होने पर इसका इलाज ढूंढ़ने की कोशिश करनी चाहिए, अन्यथा इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, हार्मोन क्या है, इसके प्रकार और फायदे पढ़ें.

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।


Published by:
Pankaj Soni


First published:
July 7, 2020, 5:26 PM IST



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here