कोरोना के ये तीन नए लक्षण बढ़ा सकते हैं परेशानी, इनको न करें नजरअंदाज | health – News in Hindi

0
69
.
कोरोना के ये तीन नए लक्षण बढ़ा सकते हैं परेशानी, इनको न करें नजरअंदाज

कोरोना वायरस मौसम के अनुसार अपनी जीनोमिक संरचना बदल रहा है.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के तीन नये लक्षणों (Symptoms) के बारे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Ministry of Health) ने जानकारी दी है. इन लक्षणों को पहचानने में डॉक्टरों को भी समय लग रहा है.

भारत समेत दुनिया भर में कोरोनावायरस (Coronavirus) के लगातार मरीज बढ़ रहे है. बुधवार को देश में 22752 कोरोना संक्रमित नए मरीज सामने आए हैं. पिछले 24 घंटे में 482 मौतें (Death) हुई हैं. कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ ही इस बीमारी के लक्षण ने देश भर के डॉक्टरों की मुसीबत को और भी बढ़ा दिया है. कोरोना वायरस के तीन नये लक्षणों (Symptoms) के बारे में पता चला है. इसी के साथ ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Ministry of Health) ने कोरोना वायरस के लक्षणों की सूची का विस्तार किया है. इसमें कोरोना के तीन नये लक्षणों को शामिल किया गया है.

ओनली हेल्थ डॉटकाम की खबर के अनुसार एक चैनल की रिपोर्ट में बताया गया है कि हैदराबाद के चेस्ट और किंग कोटि अस्पतालों के डॉक्टरों ने बताया है कि जिन लोगों में ये नए लक्षण सामने आ रहे हैं उनके निदान और उपचार की प्रक्रिया में काफी देरी हो रही है.

ये हैं कोरोना वायरस के नए लक्षण हैं
– आंख आना (Conjunctivitis)- उलटी अथवा मितली

– दस्त लगना

कोरोना वायरस के लक्षणों की कुल संख्या 12 है, जिनकी लिस्ट हम आपको दिखा रहे हैं:
– ठंड लगना
– मांसपेशियों में दर्द
– सिरदर्द

– गले में खराश
– गंध और स्वाद महसूस न होना
– सांस की तकलीफ या सांस लेने में कठिनाई

क्या कहते हैं डॉक्टर 
डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना के नये लक्षणों का पता लगाने के बाद इसका उपचार खोजना हमारी पहली प्राथमिकता है. हम लगातार ऐसे लोगों के स्वास्थ की जांच कर रहे हैं, जो नए लक्षणों से पीड़ित हैं. डॉक्टरों ने कहा कि कोरोना के सामान्य लक्षण – खांसी, बुखार और सांस फूलना है. लेकिन अब नये लक्षण डॉक्टरों को भी भ्रमित कर रहे हैं.

अपनी संरचना बदल रहा वायरस
डॉक्टरों ने बताया कि कोरोना वायरस अपने अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए मौसम के अनुसार अपनी जीनोमिक संरचना को बदल रहा है. यही कारण है कि मौसम के अनुसार इस बीमारी के लक्षण भी बदल जाते हैं.

वायरस ने बदला हमले का तरीका
समाचार रिपोर्ट में एक सीनियर डॉक्टर ने लिखा कि ये मामले फूड प्वाइजनिंग और पेट खराब होने के चलते मौसमी बदलाव के कारण सामने आ रहे हैं, लेकिन ये वायरस अब फेफड़ों की बजाय गैस्ट्रो-आंत्र पथ पर हमला कर रहा है. ऐसा कई मामलों में सामने आया है. डॉक्टर ने लिखा कि डिहाइड्रेशन के कारण गंभीर दस्त और उल्टी सामान्य है इसलिए लोग इसे डिहाइड्रेशन मानकर नजरअंदाज कर रहे हैं. अगर कोई व्यक्ति इस स्थिति से पीड़ित है तो उसे, कमजोरी, ऑक्सीजन का कम स्तर, कम बीपी, कम शुगर और अचानक बेहोश भी हो सकता है.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here