विकास दुबे के बाद अब उसकी पत्नी और बेटा भी लखनऊ से गिरफ्तार | kanpur – News in Hindi

0
113
विकास दुबे के बाद अब उसकी पत्नी और बेटा भी लखनऊ से गिरफ्तार

विकास दुबे और उसकी पत्नी रिचा दुबे. (File Photo)

लखनऊ (Lucknow) के कृष्‍णा नगर इलाके से पुलिस ने दबोचा, साथ में विकास दुबे (Vikas Dubey) का नौकर भी गिरफ्तार

लखनऊ. कानपुर (Kanpur) में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या करने के बाद उज्जैन से गिरफ्तार हुए विकास दुबे (Vikas Dubey) की पत्नी और बेटे को भी पुलिस ने दबोच लिया है. जानकारी के अनुसार विकास की पत्नी ऋचा और उसके बेटे को पुलिस ने को लखनऊ के कृष्णानगर इलाके से गिरफ्तार किया है. दोनों के साथ ही पुलिस ने विकास दुबे के नौकर को भी पकड़ा है. गौरतलब है कि इससे पहले गुरुवार को ही पुलिस ने विकास दुबे को उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया था. बता दें कि उत्तर प्रदेश पुलिस विकास दुबे को लेकर उज्जैन से रवाना हो गई है. यूपी पुलिस की टीम सड़क मार्ग से मध्य प्रदेश से निकली है. उज्जैन पुलिस ने यूपी पुलिस की टीम को विकास दुबे का हैंडओवर दे दिया है. बता दें कि उज्जैन (Ujjain) से विकास दुबे के गिरफ्तार होने के बाद उसे यूपी लाने की प्रक्रिया तेजी हुई. इस बीच विकास दुबे का कुबूलनामा (Confession) सामने आया है. सूत्रों की मानें तो पुलिस के सामने विकास दुबे ने कानपुर घटना को लेकर कई खुलासे कुए हैं. विकास दुबे ने पुलिसकर्मियों के शवों को जलाने और सबूत मिटाने की बात कही है.

पुलिस वालों को जलाने की थी साजिश
पुलिस सूत्रों के मुताबिक, अपने कबूलनामे में विकास दुबे ने बताया कि कानपुर की घटना के बाद उसके घर के ठीक बगल में कुएं के पास 5 पुलिसवालों की लाशों को एक के ऊपर एक रखा गया था, जिससे उनमें आग लगा कर सबूत नष्ट कर दिए जाए. आग लगाने के लिए घर में गैलनों में तेल रखा गया था. एक 50 लीटर के गैलन में तेल से जलाने का इरादा था. लेकिन लाशें इकट्टठा करने के बाद उसे मौक़ा नहीं मिला और वह फ़रार हो गया.

ये भी पढ़ें: गैंगस्टर विकास दुबे को लेकर मध्य प्रदेश से रवाना हुई UP पुलिस, उज्जैन से मिला हैंडओवर कबूलनामे में बोला विकास दुबे!

वहीं, विकास दुबे ने शहीद सीओ देवेंद्र मिश्र के बारे में कहा, देवेंद्र मिश्र से नहीं बनती थी. कई बार वो मुझसे देख लेने की धमकी दे चुके थे. पहले भी बहस हो चुकी थी. विनय तिवारी ने भी बताया था कि सीओ तुम्हारे खिलाफ है. लिहाजा मुझे सीओ पर ग़ुस्सा था. सीओ को सामने के मकान में मारा गया था. मैंने नहीं मारा सीओ को लेकिन मेरे साथ के आदमियों ने दूसरी तरफ़ के आहाते से कूदकर मामा के मकान के आंगन में मारा था. पैर पर भी वार किया था क्योंकि मुझे पता चला था कि वो बोलता है कि विकास का एक पैर गड़बड़ है. दूसरा भी सही कर दूंगा. सीओ का गला नहीं काटा था. गोली पास से सिर में मारी गयी थी, इसलिए आधा चेहरा फट गया था.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here