यूपी कैबिनेट का बड़ा फैसला, ITI प्रशिक्षु को हर महीने मिलेंगे 6000 रुपए

0
105

लखनऊ। अब आईटीआई प्रशिक्षित सभी युवाओं को अप्रेन्टिसशिप पर रखने वाले प्राइवेट उद्योगों और सार्वजनिक उपक्रमों को योगी सरकार अपनी तरफ से 1000 और केन्द्र सरकार से 1500 रुपए के अंशदान के साथ 2500 रुपए महीना देगी। इससे उत्तर प्रदेश के करीब एक लाख आईटीआई प्रशिक्षत युवक निजी उद्योगों व सार्वजनिक उपक्रमों से हर महीने 6000 रुपए एक साल तक पाएंगे। साथ ही वहां स्थाई नौकरी पाने के मौके भी मिलेंगे।

human unlimited desire ruined nature ruthlessly got back the same fate – राजनीति: प्रकृति को चुनौती के नतीजे

मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना के क्रियान्वयन को बुधवार को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। आईटीआई प्रशिक्षत युवक को निजी उद्योग व सार्वजनिक उपक्रम अपने यहां अप्रेन्टिसशिप पर रखते हैं तो उन्हें केन्द्रीय कौशल विभाग की ओर से प्रति प्रशिक्षु के हिसाब से 1500 रुपए प्रति महाना दिया जाता है। केन्द्र सरकार की इस योजना के साथ अब प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना के तहत अपने को जोड़ा है। इस योजना के अंतर्गत सरकार ने एक लाख ITI प्रशिक्षित युवाओं को एक साल तक राहत देने का फैसला किया है। आपको बतो दें कि इसी के साथ उद्योग इन युवाओं को अपने यहां स्थाई रूप से नौकरी देने का मौका भी दे सकते हैं।

कानपुर एनकाउंटर: कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन में महाकाल मंदिर से गिरफ्तार

बता दें कि इस साल फरवरी 2020 में इस योजना के लिए 100 करोड़ की व्यवस्था बजट में की गई थी। इसके साथ उद्योगों  के लिए यह अनिवार्य कर दिया गया है कि 2500 रुपए केंद्र और राज्य सरकार से पाने के बाद वे न्यूनतम छह हजार रुपए महीना प्रशिक्षु को दिए जाएंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here