राज से पर्दा न उठे इसीलिए किया विकास दुबे का फर्जी एनकाउंटर: अखिलेश यादव

0
86

लखनऊ । कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मास्टरमाइंड विकास दुबे आज सुबह एनकाउंटर में मारा गया है। आपको बतादें कि विकास दुबे पर 5 लाख का इनाम था। यूपी एसटीएफ की टीम जैसे ही कानपुर पंहुची वैसे ही विकास पुलिस की पिस्टल छीनने लगा। इसी बीच संतुलन बिगड़ने की वजह से गाड़ी पलट गई। जिसके बाद पुलिस पर विकास ने फायरिंह की। इस मुठभेड़ में विकास गंभीर रूप से घायल भी हो गया। साथ ही सुरक्षाकर्मियों ने अपने बचाव में गोलियां भी चलाईं। गभीर हालत में विकास को लेकर हैलट अस्पताल पहुंचे जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। विकास दुबे के शव का पोस्टमार्टम होने से पहले कोरोना टेस्ट कराया जाएगा।

विकास दुबे का एनकाउंटर एक सोची समझी साजिश? खड़े हो रहे ये बड़े सवाल

यूपी एडीजी कानून एवं व्यवस्था प्रशांत कुमार ने इस बात की जानकारी दी कि कार पलटने के बाद विकास दुबे ने पुलिस के हथियार छीनने की कोशिश की और भागने का प्रयास किया जिसके बाद पुलिस द्वारा जवाबी फायर किया गया जिसमें वह घायल हो गया। अस्पताल ले जाने के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। हम जल्द ही आधिकारिक बयान जारी करेंगे। विकास दुबे के एनकाउंटर पर सवाल खड़े होना शुरु हो गए हैं। विपक्ष के पास सवालों की पूरी लिस्ट तैयार है और विकास के खात्मे के बाद ये कहा जा रहा है कि विकास का एनकाउंटर किसी साजिश के तहत हुआ है क्या?

शक की नजरों से देखते हुए समाजवादी पार्टी ने ट़वीट कर कहा कि विकास दुबे के साथ उन सभी सबूतों और साक्ष्यों का भी एनकाउंटर हो गया है जिससे अपराधियों, पुलिस और सत्ता में बैठे उसके संरक्षकों का पर्दाफाश होता। विकास के जरिए उन सभी को बचाने की कोशिश की है जो नेक्सेस में उसके मददगार रहे ? आखिर उन सत्ताधीशों पर कार्रवाई का क्या जिनका नाम उसने स्वयं लिया?

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here