WHO के विशेषज्ञ चीन जाकर पता लगाएंगे कोरोना वायरस की उत्पत्ति का राज

0
129
.

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ने पिछले 6 महीने से ज्यादा के समय में अपने प्रकोप से पूरे देश में आतंक मचा कर रखा है। हर दिन कोरोना के बढ़ते मामले चिंता का विषय बन गए हैं। कोरोना के मामले कुछ दिनों में आठ लाख का आंकड़ा भी छू लेंगे और अभी तक इससे बचने के लिए कोई वैक्सीन नहीं आ पाई है। कोरोना का सबसे पहला मामला चीन के वुहान में मिला था तब ये ऐसा कहा जा रहा है कि चीन से ही इस वायरस की उत्पत्ति हुई है।

परीक्षाएं न होने पर डिग्री की वैधता पर उठेगा सवाल : UGC

आपको बता दें कि खबर आई है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के दो विशेषज्ञ कोविड-19 वैश्विक महामारी की उत्पत्ति का पता लगाने चीन जाएंगे। दो दिन के लिए ये विशेषज्ञ चीन में ही रहेंगे। संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि दो विशेषज्ञों में एक पशु स्वास्थ्य विशेषज्ञ होंगे और दूसरे महामारी विज्ञनी होंगे। ये दोनों ही अपनी यात्रा के दौरान भविष्य के अभियान के लिए काम करेंगे जिसका मकसद यह पता लगाना है कि यह विषाणु पशुओं से मनुष्यों तक कैसे फैला।

आठ हत्याएं, आठवां दिन ! महाकाल ने किया हिसाब, विकास का हुआ विनाश!

वैज्ञानिकों का मानना है कि यह विषाणु चमगादड़ों से पैदा हुआ और फिर कस्तूरी बिलाव या पैंगोलिन जैसे अन्य स्तनधारी प्राणियों में फैला और इसके बाद पिछले साल के अंत में चीनी शहर वुहान के खाद्य बाजार में लोगों तक फैला है। आने वाले समय में ऐसी महामारियों को फैलने से रोकने के लिए चीन ने वन्यजीवों के व्यापार पर कार्रवाई की और कुछ पशु बाजार बंद भी कर दिए।

 

 

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here