सचिन पायलट कांग्रेस लेटेस्ट अपडेट्स

0
80
.
राजस्थान: कांग्रेस ने कुर्सी छीन पायलट को खूब कोसाराजस्थान: कांग्रेस ने कुर्सी छीन पायलट को खूब कोसा
हाइलाइट्स

  • सूत्रों का कहना है कि राहुल जिस तरह से पार्टी को चलाने की कोशिश कर रहे हैं, उससे नुकसान बढ़ रहा है
  • कांग्रेस से जुड़े सूत्र का कहना है कि पार्टी के तमाम नेताओं ने सोनिया गांधी को भावनाओं से अवगत कराया
  • अब तक राहुल गांधी के खिलाफ ज्यादातर वरिष्ठ नेता थे लेकिन अब युवा नेता बगावत पर उतर आए हैं

मुंबई

एक तरफ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर एक बार फिर से राहुल गांधी की ताजपोशी की भूमिका बनाई जा रही है, तो दूसरी तरफ कांग्रेस के अंदर इस तरह की चर्चा है कि पार्टी में राहुल के खिलाफ बड़ा विद्रोह हो सकता है। कांग्रेस के भरोसेमंद सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी जिस तरह से पार्टी को चलाने की कोशिश कर रहे हैं, उससे दिन-ब-दिन पार्टी का नुकसान बढ़ता जा रहा है। ज्योतिरादित्य सिंधिया और सचिन पायलट के उदाहरण सबके सामने हैं।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी से जुड़े एक सूत्र का कहना है कि पार्टी के तमाम नेता सोनिया गांधी को अपनी भावनाओं से अवगत करा चुके हैं। इस नेता का कहना है कि जिस तरह सोनिया गांधी ने कांग्रेस की कमान संभालने के बाद आपसी समन्वय और सलाह मशवरे से कांग्रेस को चलाया था पार्टी को चलाने का वही सबसे बेहतर तरीका है।



पढ़ें: राहुल की उस तस्वीर का पायलट ने खोला राज़

युवा नेता भी राहुल के खिलाफ!

इस सब घटनाक्रम के बीच एक सबसे खास बात यह निकलकर सामने आ रही है कि अब तक कांग्रेस में राहुल गांधी के खिलाफ ज्यादातर वरिष्ठ और बुजुर्ग नेता थे लेकिन अब युवा नेता जिन्हें राहुल ब्रिगेड के नाम से भी जाना जाता है, वह भी राहुल के खिलाफ बगावत पर उतर आए हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया और सचिन पायलट के उदाहरण तो सबके सामने हैं, लेकिन इसकी शुरुआत प्रियंका चतुर्वेदी और संजय झा से हो चुकी है, जो कभी कांग्रेस के प्रवक्ता हुआ करते थे।

प्रिया दत्त ने किया पायलट के समर्थन में ट्वीट

राजस्थान के सियासी संकट के बाद मंगलवार को जिस तरह से प्रिया दत्त ने ट्वीट कर ज्योतिरादित्य सिंधिया और सचिन पायलट की बगावत का समर्थन किया है, उससे यह संदेश भी जा रहा है कि महाराष्ट्र और मुंबई में भी राहुल गांधी के खिलाफ विद्रोह पक रहा है। लंबे समय से राजनीतिक परिदृश्य से गायब प्रिया दत्त का अचानक जागरूक होकर राजस्थान कांग्रेस के संकट पर ट्वीट कर सचिन पायलट का समर्थन करना कांग्रेसियों की नजर में एक असामान्य घटना है। कांग्रेसी जानकार इसे एक सोची-समझी रणनीति का हिस्सा मान रहे हैं।

प्रिया ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मेरे एक और दोस्त ने पार्टी छोड़ दी। सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया दोनों ही बेहद काबिल और जवान उम्मीदों के नेता हैं। हमारी पार्टी ने इन दोनों नेताओं को गवा दिया। महत्वाकांक्षी होना गलत तो नहीं है ऐसा मुझे लगता है। सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया इन दोनों ने मुश्किल के समय में पार्टी के लिए मेहनत की।’

मिलिंद देवड़ा भी चल रहे हैं नाराज

प्रिया के इस ट्वीट को राहुल गांधी के खिलाफ माना जा रहा है। राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि राहुल की युवा ब्रिगेड के सबसे दमदार सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा भी राहुल गांधी से नाराज चल रहे हैं। हालांकि, राजस्थान प्रकरण के दौरान मिलिंद देवड़ा ने चुप्पी साध रखी है।

निरुपम ने पार्टी नेतृत्व के रवैये से खुश नहीं

वहीं राहुल गांधी के करीबी समझे जाने वाले मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संजय निरुपम भी पार्टी के भीतर पनप रहे असंतोष और असहमति को खत्म न कर पाने के पार्टी नेतृत्व के रवैया से खुश नहीं हैं। निरुपम सोमवार को ही ट्वीट कर अपनी नाखुशी जाहिर कर चुके हैं। निरुपम ने कांग्रेस आलाकमान के सामने यह सवाल उठाया कि एक के जाने से पार्टी खत्म नहीं होगी, लेकिन सब चले गए तो पार्टी में कौन बचेगा?

राहुल के खिलाफ बगावत का माहौल

राहुल के खिलाफ बगावत का माहौल

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here