श्रावण पूर्णिमा पर राम जन्मभूमि का शिलान्यास संभव, 18 जुलाई को बैठक में अंतिम निर्णय के बाद पीएम मोदी को न्यौता | ayodhya – News in Hindi

0
69
.
अयोध्या. उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण को लेकर शिलान्यास कार्यक्रम पर जल्द ही अंतिम मुहर लग सकती है. माना जा रहा है कि श्रावण मास की पूर्णिमा पर राम जन्मभूमि का शिलान्यास कार्यक्रम शुरू हो सकता है. इन सभी बातों पर अंतिम निर्णय 18 जुलाई को अयोध्या में होने वाली ट्रस्ट की बैठक में लिया जाएगा. बताया जा रहा है कि इस बैठक में ही तारीखें तय करने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को न्यौता भेजा जा सकता है. तारीख तय करने में पीएम के कार्यक्रमों से संतुलन बिठाने की कोशिश की जा रही है.

बैठक के एजेंडे को लेकर अहम मुलाकात

गुरुवार को राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा ने गुरुवार को सर्किट हाउस में ट्रस्ट के लोगों और अधिकारियों के साथ बैठक की. बैठक में नृपेंद्र मिश्र के साथ राम जन्म भूमि सुरक्षा सलाहकार व बीएसएफ के पूर्व डीजी केके शर्मा, आईजी रेंज डॉ संजीव गुप्ता, कमिश्नर एमपी अग्रवाल, डीएम अनुज झा, एसएसपी आशीष तिवारी और राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय भी शामिल हुए.

18 जुलाई को बैठक में होगा अंतिम निर्णय: चंपत रायसर्किट हाउस में बैठक के बाद राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि आज की बैठक केवल शिष्टाचार बैठक थी. राम मंदिर की भूमि पूजन पर अंतिम निर्णय ट्रस्ट की 18 जुलाई को अयोध्या में होने वाली बैठक में लिया जाएगा. राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा के साथ आज की बैठक केवल शिष्टाचार बैठक हुई. इस दौरान 18 जुलाई के ट्रस्ट की बैठक के एजेंडे पर चर्चा हुई.

क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस शिलान्यास कार्यक्रम में आएंगे? क्या वे 3 से 5 अगस्त के बीच आ सकते हैं? इन सवाल पर चंपत राय ने साफ किया कि प्रधानमंत्री के बुलावे को लेकर भी 18 जुलाई को ही ट्रस्ट की बैठक में चर्चा होगी.

पीएम मोदी के दौरे को लेकर नृपेंद्र मिश्रा, केके शर्मा का आगमन!

बता दें माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भूमि पूजन के पूर्व राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा व राम जन्मभूमि के सुरक्षा सलाहकार के के शर्मा का दौरा हो रहा है. सूत्रों के मुताबिक 3 या 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में भूमि पूजन कर सकते हैं. भूमि पूजन को लेकर राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र व राम जन्म भूमि के सुरक्षा सलाहकार केके शर्मा का दौरा अहम माना जा रहा है.

इससे पहले केके शर्मा ने राम जन्मभूमि परिसर में सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया. इसके बाद डीएम, एसएसपी और सुरक्षा से जुड़े तमाम अधिकारियों के साथ 1 घंटे से ज्यादा बंद कमरे में चर्चा भी की, इसके बाद बीएसएफ के पूर्व डीजीपी केके शर्मा कारसेवक पुरम पहुंचे और श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारी चंपत राय और अनिल मिश्रा से मुलाकात की. साथ ही श्रीराम जन्मभूमि न्यास कार्यशाला गए, जहां पर पत्थर तराशने का कार्य चल रहा है.

माना जा रहा है कि 18 जुलाई को अयोध्या में होने वाली बैठक के मद्देनजर सारी व्यवस्थाएं की जा रही हैं. 18 जुलाई को अयोध्या में ट्रस्ट की दूसरी अहम बैठक है जिस पर राम मंदिर निर्माण की स्थिति पर भी चर्चा होगी.

अहम जिम्मेदारी निभा चुके हैं केके शर्मा

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि बीएसएफ के पूर्व डीजी केके शर्मा राजस्थान कैडर के आईपीएस रहे हैं. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सुरक्षा के प्रमुख और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा के 6 साल तक व्यवस्था देखने वाले को भवन निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा द्वारा श्री राम जन्म भूमि की सुरक्षा सलाहकार मनोनीत किया गया है. साथ ही राम लला की सुरक्षा के मद्देनजर केके शर्मा से यह आग्रह किया गया था कि राम जन्मभूमि परिसर की 70 एकड़ की सुरक्षा की समीक्षा की जाए. मंदिर निर्माण के समय, मौजूदा समय और आगामी दिनों को देखकर राम मंदिर निर्माण की सुरक्षा व्यवस्था पर विचार करने के लिए केके शर्मा को यहां भेजा गया है. अब वे अपनी रिपोर्ट भेजेंगे.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here