mumbai congress: कब खुलेगा मुंबई कांग्रेस कार्यालय पर लगा ताला ? – when mumbai congress office lock will opened

0
90
.
सांकेतिकि चित्रसांकेतिकि चित्र

मुंबई

मुंबई में सक्रिय लगभग सभी राजनीतिक दलों के कार्यालय खुल गए हैं, लेकिन मुंबई कांग्रेस कार्यालय ( एमआरसीसी ) खुलने का नाम ही नहीं ले रहा है। कांग्रेस के समर्पित कार्यकर्ता व पदाधिकारी एमआरसीसी आकर काम करना चाहते हैं, लेकिन जब कार्यालय ही बंद है, तो जाएं कहां? कार्यालय बंद होने से कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों में भारी नाराजगी है।

आजाद मैदान से सटकर मुंबई कांग्रेस का कार्यालय है, जहां एक समय खूब चहल-पहल रहती थी। मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष स्व. गुरुदास कामत, पूर्व अध्यक्ष कृपाशंकर सिंह, पूर्व अध्यक्ष संजय निरुपम के समय मुंबई कांग्रेस खूब चर्चा में थी। सुबह से लेकर शाम तक यहां पर लोगों का जमावड़ा रहता था, लेकिन अब वह सब पूरी तरह से खत्म हो गया है। रही सही कसर कोरोना वायरस ने पूरी कर दी। लॉकडाउन लगने के बाद से पार्टी कार्यालय नहीं खुला।

सभी राजनीतिक दलों के दफ्तर खुले

मुंबई कांग्रेस कार्यालय के दो से तीन किलोमीटर के दायरे में भाजपा, एनसीपी, शिवसेना सहित लगभग सभी राजनीतिक दलों के कार्यालय हैं, जो खुल गए हैं। यहीं नहीं, महाराष्ट्र कांग्रेस का कार्यालय भी खुल गया है। वहां पर पदाधिकारियों का आना-जाना लगा रहता है। अब ऐसे में सवाल उठाया जा रहा है कि आखिर मुंबई कांग्रेस के कार्यालय पर ताले क्यों लगे हैं?

“दूसरे राजनीतिक दलों के कार्यालय मुंबई में खुले हैं, तो हमारे मुंबई कांग्रेस का कार्यालय भी खुलना चाहिए। अब अध्यक्ष एकनाथ गायकवाड की उम्र ज्यादा है, वो नहीं आ सकते। यह सही है, लेकिन हम लोग तो आ सकते हैं। कार्यालय में बैठक लोगों की मदद तो कर सकते हैं और पार्टी की गतिविधि भी फिर से शुरू कर सकते हैं, लेकिन पहले कार्यालय तो खुले। अब सवाल यह है कि अगर कोरोना एक साल तक रहेगा, तो क्या एमआरसीसी एक साल बंद रहेगी? आगे बीएमसी के चुनाव है, उसकी तैयारी कैसे करेंगे ?”-उपेंद्र दोषी, उपाध्यक्ष (मुंबई कांग्रेस)

कार्यकर्ता और पदाधिकारी उठा रहे सवाल

सवाल कांग्रेस के कार्यकर्ता और पदाधिकारी ही उठा रहे हैं। कहते हैं कि एक तो मुंबई में कांग्रेस का बुरा हाल है, उस पर कार्यालय पर ताले लगे रहना ठीक नहीं है। कुछ लोगों का कहना है कि मुंबई कांग्रेस के कार्यालय प्रबंधक भावसार और कोषाध्यक्ष संदीप शुक्ल सप्ताह में एकाध बार आते हैं, लेकिन उनके आने-जाने का समय पहले से तय नहीं होता।

“महाराष्ट्र प्रदेश का कार्यालय कब का खुल गया है। अध्यक्ष बाला साहेब थोरात अक्सर आते हैं। वहां कामधाम शुरू हो गया है, तो मुंबई कांग्रेस का भी कार्यालय खुलना चाहिए, ताकि वहां पर कार्यकर्ता पदाधिकारी आकर बैठ सकें और पार्टी का काम कर सकें। आने वाले दिनों में बीएमसी के चुनाव हैं। अब जब कार्यालय पर ही ताले लगे होंगे, तो कार्यकर्ता कहां जाएगा। कार्यालय से ही लोगों की मदद की जाएगी, लेकिन पहले कार्यलय तो खुले।”-राजू वाघमारे, प्रवक्ता (महाराष्ट्र कांग्रेस)

कहां जाएं कार्यकर्ता?

मुंबई कांग्रेस कार्यालय के करीब ही निवास करने वाले पार्टी के उपाध्यक्ष भवरसिंह राजपुरोहित का कहना है कि हमारे घर के करीब ही महाराष्ट्र कांग्रेस प्रदेश, भाजपा, राकांपा के कार्यालय हैं। उनके कार्यालय में लोग आ रहे हैं, जबकि मुंबई कांग्रेस के ताले ही अब तक नहीं खुले हैं। यह अच्छी बात नहीं है। कम से कम मुंबई कांग्रेस का कार्यालय तो खुले। कांग्रेस कार्यकर्ता व पदाधिकारी मुंबई कांग्रेस में आकर काम करना चाहते हैं, परंतु कार्यालय पर ताले लगे हैं। ऐसे में कार्यकर्ता कहां जाएं?

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here