करोड़ों की जालसाजी में IFS का जालसाज पति अजीत गुप्ता लखनऊ में गिरफ्तार, 600 करोड़ की बनाई संपत्ति | amethi – News in Hindi

0
78
.
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की लखनऊ पुलिस (Lucknow Police) ने 50 हजार का इनामी एक बड़ा जालसाज अजीत गुप्ता (Ajeet Gupta) को गिरफ्तार किया है. पता चला है कि ठगी करके अजीत गुप्ता ने करीब 600 करोड़ की संपत्ति बना ली. उसने लखनऊ राजधानी के 5 थानों समेत अयोध्या, सुल्तानपुर, अमेठी, प्रतापगढ़ जिलों में सैकड़ों लोगों को करोड़ों का चूना लगाया. उसने साल भर में 40 फीसदी का रिटर्न देने का झांसा देकर पूर्वांचल एक्सप्रेस वे में मुआवजा पाए सैकड़ों किसानों से ठगी की.

सूत्रों के मुताबिक अजीत की पत्नी भारतीय विदेश सेवा की अधिकारी है और फिलहाल इटली में तैनात है. पत्नी के साथ देश की तमाम हस्तियों की तस्वीरों को अजीत झांसा देने में भी इस्तेमाल करता था.

लखनऊ सहित 5 जिलों में दर्जनों एफआईआर

डीसीपी ईस्ट सोमेन बर्मा ने बताया करोड़ों रुपए की ठगी के आरोपी 50 हज़ार के इनामी अजीत गुप्ता को पीजीआई पुलिस ने एसटीएफ के सहयोग से गिरफ्तार किया है. मूल रूप से अयोध्या निवासी अजीत गुप्ता के खिलाफ राजधानी के 5 थानों समेत अयोध्या, सुल्तानपुर, अमेठी, प्रतापगढ़ समेत प्रदेश के कई जिलों में एफआईआर दर्ज हैं.कंपनी बनाकर ठगी

डीसीपी ईस्ट ने बताया कि अजीत गुप्ता शातिर जालसाज है, जिसने एनी बुलियन नाम की कंपनी बना रखी थी जो हीरा, सोना, चांदी के नोट और सिक्कों का व्यापार करती थी. अजीत ने तमाम लोगों को उसकी कंपनी में निवेश का ऑफर दिया और लालच दिया कि निवेश पर उनको एक साल के भीतर 40 फ़ीसदी रिटर्न दिया जाएगा. जिसमें फंसकर सैकड़ों लोगों ने अजीत की कंपनी में करोड़ों रुपए लगाए. शुरुआत में कुछ लोगों को अजीत ने तय शर्तों के मुताबिक रिटर्न भी दिए, जिससे लोगों को उसकी स्कीम पर भरोसा हो गया.

तस्करी में भी लगाया पैसा

जांच में सामने आया है कि निवेश में मिली रकम को अजीत ने शेयर मार्केट और सोने, चांदी की तस्करी में लगाया. उससे जो कमाई हुई, वह निवेशकों को नही दी और खुद ही रख ली.

एक्सप्रेस वे का मुआवजा पाने वाले किसानों को बनाया शिकार

अजीत ने अपनी स्कीम से लखनऊ, बाराबंकी, अयोध्या, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, अमेठी जैसे जिलों के हजारों लोगों से कई करोड़ रुपए की ठगी की. सुल्तानपुर, अमेठी, प्रतापगढ़ में कुछ ऐसे मामले भी सामने आए हैं, जहां पर पूर्वांचल एक्सप्रेसवे में जमीन देकर मुआवजा पाए किसानों को अजीत ने टारगेट किया और उनसे सैकड़ों करोड़ रुपए ठग लिए.

पतंजलि स्टोर से जोड़ी कंपनी

जांच में सामने आया है कि अजीत ने ठगी का कारोबार बढ़ाने के लिए एक सोसाइटी का भी रजिस्ट्रेशन कराया था. इसके अलावा 10 और कंपनियां बनाई थी जिसमें लोगों को निवेश करवाता था. 2010 में अजीत ने अनी बुलियन इंडस्ट्री प्राइवेट लिमिटेड नाम से कंपनी बना ली थी. इस कंपनी इस कंपनी का शेयर ट्रेडिंग मार्केट में एमसीएक्स, एनसीडीईएक्स, बीएसई, एनएसई, एमएसई स्टॉक एक्सचेंज में रजिस्ट्रेशन भी कराया था. 2016 में एनी मार्केटिंग सॉल्यूशन बनाकर पतंजलि स्टोर से उसे अजीत ने जोड़ा था.

रियल एस्टेट में भी किया इन्वेस्ट

जांच में सामने आया अजीत ने रियल एस्टेट कंपनियों में भी अच्छी खासी रकम लगाई थी. अजीत, एनी राजावत प्राइवेट लिमिटेड, एनी श्री साईं इंफ्रा लिमिटेड नाम की कंपनियां बनाकर उसमें हिस्सेदार के रूप में शामिल हुआ. मोटी मुनाफे का लालच देकर सैकड़ों लोगों का निवेश कराया और मुनाफा कमाकर किनारे हो गया.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here