प्रयागराज: एक ही परिवार के 4 लोगों की हत्या का खुलासा, सामने आया चौंका देने वाला सच | allahabad – News in Hindi

0
209
.
प्रयागराज: एक ही परिवार के 4 लोगों की हत्या का खुलासा, सामने आया चौंका देने वाला सच

एक ही परिवार के 4 लोगों की हत्या का खुलासा

एसएसपी (SSP) अभिषेक दीक्षित के मुताबिक घटना के खुलासे के लिए चार पुलिस की टीमें लगायी गई थी. इन पुलिस की टीमों ने ऑपरेशन बंजारा चलाया था.

प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में 2 जुलाई की रात एक ही परिवार के 4 लोगों को उनके ही घर में बेरहमी से क़त्ल (Murder) का खुलासा 15वें दिन शुक्रवार को कर दिया. पुलिस ने इस जघन्य हत्याकांड को अंजाम देने वाले छेमार गैंग के पांच सदस्यों सारिक, शहरुख, डाबर, वारिश और फरमान को गिरफ्तार कर लिया है. जबकि गैंग का सरगना बदायूं निवासी 50 हजार का इनामी मोबिन को पहले ही 14 जुलाई को बंदायू पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने हत्यारोपियों के पास से हत्या में प्रयुक्त एक चापड़, एक कुल्हाड़ी, दो चाकू, चोरी का मोबाइल और लूट के 8900 रुपए बरामद किए हैं.

इसके साथ ही पुलिस मृतक विमलेश पांडेय के पड़ोसी होमगार्ड सुरेन्द्र यादव को भी गिरफ्तार कर जेल भेज रही है. सुरेन्द्र यादव पर मृतक विमलेश पांडेय के मोबाइल से छेड़छाड़ कर साक्ष्य मिटाने का आरोप है. इसके साथ ही हत्या के बाद ही होमगार्ड लगातार पुलिस को गलत सूचनाएं देकर गुमराह भी कर रहा था. एसएसपी अभिषेक दीक्षित के मुताबिक घटना के खुलासे के लिए चार पुलिस की टीमें लगायी गई थी. इन पुलिस की टीमों ने ऑपरेशन बंजारा चलाया था. जिसके चलते इस ब्लाइंड मर्डर केस के आरोपियों तक पुलिस पहुंच सकी है.

ये भी पढ़ें- भदोही: UP कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू समेत 100 लोगों के खिलाफ FIR

एसएसपी के मुताबिक छेमार गैंग के लोगघुमंतू जाति के खानाबदोश लोग होते हैं. जो दिन में डेरा डालकर प्रवास करते हैं और रेकी भी करते हैं. जिसके बाद रात को लूटपाट और हत्या की वारदात को अंजाम देते हैं. पुलिस की जांच में ये पता चला है कि लूटपाट की घटनाओं में निर्ममता से छह हत्या करने वाला ही गैंग का सरगना बनता है. इसलिए इसे छेमार गैंग भी कहा जाता है. एसएसपी के मुताबिक गैंग के सरगना को भी पुलिस जल्द रिमांड पर लेकर उससे पूछताछ करेगी. उनके मुताबिक छेमार गैंग के लोग यूपी के साथ ही पड़ोसी राज्य उत्तराखंड और राजस्थान में भी वारदातों को अंजाम दे चुके हैं और गैंग के कई सदस्य जेल भी जा चुके हैं.एसएसपी अभिषेक दीक्षित ने कहा है कि पुलिस जिले में इससे पहले हुए सामूहिक हत्याकांड की भी जांच इसी आधार पर आगे बढ़ायेगी. उन्होंने कहा है कि जिले में खानाबदोश और घुमंतू जातियों के लोगों का वेरिफिकेशन आगे भी कराया जायेगा. गौरतलब है कि 2 जुलाई की रात होलागढ़ के देवापुर गांव में क्लीनिक चलाने वाले विमलेश पांडेय उनके बेटे प्रिंस और दो बेटियों सृष्टि व श्रेया की सोते समय धारदार हथियार से हत्या कर दी गई थी. जबकि उनकी पत्नी रचना पांडेय को गम्भीर हालत में एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जहां पर उनकी हालत अब स्थिर बनी हुई है.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here