महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा शपथ ग्रहण की मर्यादा लिए आचार संहिता जरूरी

0
107
.

Edited By Himanshu Tiwari | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

महाराष्ट्र गवर्नर ने की मांगमहाराष्ट्र गवर्नर ने की मांग
हाइलाइट्स

  • महाराष्ट्र के राज्यपाल ने उपराष्ट्रपति और लोकसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र
  • भगत सिंह कोश्यारी ने कहा, शपथ ग्रहण के लिए आचार संहिता बनाई जाए
  • सभी सदस्य तय प्रारूप का ही पालन करें, शपथ की मर्यादा बचाए रखना जरूरी
  • कोश्यारी ने कहा, निर्धारित प्रपत्र के बजाए सदस्य अपनी पार्टी के शीर्ष नेताओं का नाम लेते हैं

मुंबई

शपथ ग्रहण के दौरान निर्धारित प्रपत्र के बजाए कुछ चीजों को जोड़ने पर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी लगातार नराजगी जताते रहे हैं। अब राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू (Vice President M Venkaiah Naidu) और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि संसद सदस्य हो या फिर विधानमंडल के सदस्य, इनकी शपथ ग्रहण के लिए आचार संहिता बने, जिससे सदस्य निर्धारित रूप से ही शपथ ग्रहण करें।

यही नहीं, राज्यपाल ने कहा कि नवनिर्वाचित सांसद और विधानमंडल के सदस्य शपथ ग्रहण के दौरान निर्धारित प्रपत्र के बजाए अपनी पार्टी के शीर्ष नेताओं और आराध्य लोगों का नाम जोड़कर शपथ लेते हैं। शपथ की मर्यादा बचाए रखने के लिए आचार संहिता बनानी जरूरी है।

पढ़ें: सेना पर अभद्र टिप्पणी, JNU स्कॉलर पर FIR



…तो नाराज हो गए थे महाराष्ट्र गवर्नर

महाराष्‍ट्र में उद्धव ठाकरे के मंत्रियों की शपथ के दौरान विवाद हो गया था। मंत्रियों के पद और गोपनीयता की शपथ लेने के दौरान कांग्रेस विधायक केसी पाडवी ने कुछ ऐसे शब्‍द कहे जिससे राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी नाराज हो गए। कोश्‍यारी ने पाडवी को नसीहत दी कि शपथ लेने की जो लाइनें निर्धारित हैं, उन्‍हें ही पढ़ें। इसके बाद उन्‍होंने पाडवी को दोबारा शपथ दिलाई।

पढ़ें: हार से बौखलाए पाकिस्तान ने लौटते वक्त भी की गद्दारी



इन तरीकों पर जताई थी नाराजगी

ऐसा पहली बार नहीं है जब राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी महाराष्‍ट्र सरकार के मंत्रियों के शपथ ग्रहण करने तरीकों से नाराजगी जताई थी। इससे पहले उद्धव ठाकरे और उनके मंत्रियों के शपथ ग्रहण के तरीके पर राज्यपाल ने आपत्ति जताई थी। नियमों और तय प्रकिया का उल्लंघन करते हुए विधायकों ने राज्यपाल द्वारा शपथ शुरू करने से पहले अपने-अपने नेताओं और भगवान को याद किया था। इस दौरान किसी ने छत्रपति शिवाजी महाराज को याद किया तो किसी ने बाला साहेब ठाकरे, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और शरद पवार का नाम लिया।

(एजेंसी इनपुट्स के साथ)

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here