अगर आप भी हैं भोलेनाथ के भक्त तो पूजा में जरूर बरतें ये सावधानियां

0
174
.

जैसा की सभी को पता है कि सावन का पावन महीना चल रहा है। औऱ सावन मास भगवान शिव को कितना प्रिय है। कहते हैं कि भगवान शिव सावन के महीने में धरती पर अवतरित होते हैं। सावन के महीने को भोलेनाथ की पूजा करने का सबसे अच्छा समय माना जाता है। सावन का महीना खत्म होने में अब कुछ ही दिन बाकी हैं। 3 अगस्त को सावन के आखिरी सोमवार का व्रत रखा जाएगा।  सावन का महीना भगवान शिव को बेहद प्रिय है। ऐसा माना जाता है कि इस महीने में सच्चे दिल से की गई पूजा अर्चना का फल और आशीर्वाद भक्तों को भगवान शिव जरूर देते हैं। शास्त्रों के मुताबिक, सोमवार का दिन भगवान शिव की अराधना का होता है। माना जाता है कि भगवान शिव की पूजा के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है। आज हम आपको भगवान शिव की पूजा से जुड़ी कुछ बातें बताएंगे जिनको शिव जी की पूजा करते वक्त जरूर ध्यान रखना चाहिए।

शिव जी की अराधना में इन बातों का रखें ख्याल-

  1. ऐसा माना जाता है कि शिव जी के उपासकों को सावन के महीने में बैंगन का सेवन नहीं करना चाहिए।
  2. कहते हैं कि सावन महीने में पूजा में तुलसी के पत्तों और केतकी के फूलों का इस्तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए। मान्यता है कि भगवान शिव को सफेद रंग के पुष्प चढ़ाने से पूजा का फल जरूर मिलता है।
  3. कहा जाता है कि भगवान शिव की पूजा में शिवलिंग पर भूल कर भी हल्दी और कुमकुम नहीं लगाना चाहिए। कुमकुम को लेकर कहा जाता है कि सुहागिन औरतें अपने पति की लंबी आयु के लिए कुमकुम लगाती हैं। जबकि भगवान शिव को संहारक के रूप में माना जाता है। ऐसे में पूजा के दौरान कुमकुम का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  4. ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव की अराधना करते समय शिवलिंग पर नारियल के पानी से अभिषेक नहीं करना चाहिए। हालांकि ये कहा जाता है कि भगवान शिव की प्रतिमा पर नारियल का फल अर्पित करना बहुत शुभ होता है।
  5. शिवलिंग का अभिषेक करते समय कास्य और पीतल के बर्तनों का इस्तेमाल करना शुभ माना गया है।
  6. भगवान शिव को अर्पित की जाने वाले सभी चीजें शुद्ध और निर्मल होनी चाहिए।

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here