गोरखपुर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सीएम योगी ने दिए ये निर्देश

0
71
.

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर एवं बस्ती मण्डल में कोविड-19 के सम्बन्ध में समीक्षा बैठक की जिसमें उन्होंने प्रतिदिन 500 से 1000 रैपिड टेस्ट कराने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने कहा कि स्वच्छता, सैनिटाइजेशन, फॉगिंग आदि का कार्य नियमित रूप से चलाया जाये। सीएम योगी ने अस्पतालों में बेड की संख्या को और बढ़ाने के लिए भी कहा।

सीएम योगी ने कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के कार्य को और बेहतर करने के भी निर्देश दिए। इसी के साथ आपको बता दें कि सीएम ने ये मास्क का प्रयोग न करने वालों का चालान करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि कोविड अस्पतालों में साफ-सफाई, समय से भोजन एवं डॉक्टरों की उपलब्धता के साथ-साथ नियमित रूप से राउण्ड लिया जाए। मरीजों की जांच की जाये तथा होम आइसोलेशन के नियमों का सख्ती से पालन कराया जाये।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जाये और पानी उबालकर पीने के लिए भी जागरूक किया जाये। जहां भी 10 से अधिक लोग एकत्रित हो रहे हैं, वहां पर कोविड हेल्प डेस्क अनिवार्य रूप से बनाया जाये। हेल्पडेस्क पर पल्स ऑक्सीमीटर एवं इन्फ्रारेड थर्मामीटर की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी कहा ।

राजधानी लखनऊ के सबसे बड़े कंटेनमेंट जोन से इस दिन से हटेगा प्रतिबंध

सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रत्येक वॉर्ड/ग्राम पंचायत में नोडल अधिकारी तैनात किया जाएं। निगरानी समितियों को एक्टिव करते हुए सर्विलान्स का कार्य और बेहतर तरीके से किया जाये। उन्होंने डोर-टू-डोर सर्वे पर बल देते हुए कहा कि इस समय कोविड-19 के दृष्टिगत चुनौतियां बहुत अधिक हैं, इसलिए और सतर्क रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि मेडिकल इंफेक्शन न फैले, इसके लिए लगातार आईएमए, नर्सिंग होम एसोसिएशन एवं प्रशासन परस्पर संवाद करते रहें और नर्सिंग होम/प्राइवेट अस्पताल कोविड मरीजों को रेफर करने की सूचना कन्ट्रोल रूम को दें।

कड़ी सुरक्षा से लैस होगा प्रियंका गांधी का लखनऊ का ठिकाना

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रोजगार उपलब्ध कराने की स्थिति की जानकारी लेते हुए कहा कि खाद्यान्न माफियाओं पर कड़ी कार्यवाही की जाये। हर गरीब को खाद्यान्न मिले और खाद्यान्न वितरण नोडल अधिकारी की देखरेख में किया जाये। उन्होंने लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने की समीक्षा के दौरान सभी जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि जनपद में सेवायोजन विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करते हुए अधिक से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जाये और प्रतिदिन उनसे समीक्षा भी की जाये। उन्होंने कहा कि उद्योगों को चिन्हित कर लोगों को उनकी क्षमता के अनुसार रोजगार उपलब्ध कराया जाये।

 

 

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here