बदल सकता है हर की पौड़ी का नाम, ये नाम रख सकती है उत्तराखंड सरकार

0
102
.

उत्तराखंड। उत्तराखंड के प्रसिद्ध स्थलों में एक हरकी पैड़ी सालों से इसी नाम से जानी जाती है। जो उत्तराखंड जाए वो हरकी पौड़ी न जाए ऐसा तो हो नहीं सकता। यहां की पवित्रता और महत्व की अलग ही कहानी है। लेकिन अब हरकी पौड़ी का नाम बदलने की उमीद जताई जा रही है। हरकी पौड़ी पर गंगा को देवधारा घोषित करने की बात सामने आई है जिसके बाद तीर्थ पुरोहितों ने विरोध शुरू कर दिया है। तीर्थ पुरोहितों की महासभा ने चेतावनी दी है कि गंगा के नाम के साथ छेड़छाड़ करने पर राष्ट्रव्यापी आंदोलन किया जाएगा।

आपको बता दें कि पुरोहितों का मानना है कि गंगा के नाम बदलना ठीक नहीं है। सरकार की इस मंशा का लगातार विरोध हो रहा है। अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीकांत वशिष्ठ ने कहा कि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की सरकार ने हरकी पैड़ी पर प्रवाहित हो रही गंगा का नाम बदलकर स्कैप चैनल करने का एक शासनादेश कर दिया था। जिसके खिलाफ अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा ने अपने अधिवेशन में इस शासनादेश को निरस्त करने का प्रस्ताव वर्ष 2016 में पारित किया था।

इस मांग पत्र को लेकर एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मई 2018 में मुलाकात की थी। जिसमें इस बात की मांग की गई कि उक्त शासनादेश शीघ्र अति शीघ्र निरस्त किया जाए। उन्होंने जानकारी दी कि बीते शुक्रवार को कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक की अध्यक्षता में एक बैठक हुई थी।  इसमें तय किया गया कि वर्ष 2016 का शासनादेश पलटा जाएगा और हर की पैड़ी पर प्रभावित हो रही मां गंगा के नाम को बदलकर देवधारा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मां गंगा के नाम को गंगा ही रहने दिया जाए। इसके साथ छेड़छाड़ करने पर आंदोलन किया जाएगा।

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here