मुंबई कांग्रेस: राजभवन के बाहर कांग्रेस नेताओं ने किया प्रदर्शन – congress leaders demonstrated outside raj bhavan

0
56
.

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

मुंबई कांग्रेसमुंबई कांग्रेस

मुंबई

राजस्थान में अशोक गहलोत की निर्वाचित सरकार को अलोकतांत्रिक तरीके से अपदस्थ करने की कोशिशों के खिलाफ कांग्रेस ने सोमवार को राजभवन के बाहर प्रदर्शन किया। बता दें कि ‘स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी’ अभियान के तहत सोमवार को देशभर में राजभवनों के बाहर कांग्रेस ने प्रदर्शन किया। इसी के तहत मुंबई में महाराष्ट्र की सरकार में शामिल कांग्रेस के मंत्री और तमाम बड़े नेता राज भवन के बाहर आयोजित प्रदर्शन में शामिल हुए। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आदेश पर आयोजित किए गए इस राजभवन आंदोलन में मुंबई और महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं ने केंद्र की भाजपा सरकार पर राजस्थान में लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाया।

महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और राज्य के राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने आंदोलन का नेतृत्व करते हुए कहा कि सत्ता, पैसा और राज्यपालों के कार्यालयों का दुरुपयोग कर भाजपा देश के विभिन्न राज्यों में विरोधी दलों की सरकारें गिराने का प्रयत्न कर रही है। ऐसा करके भाजपा लोकतंत्र की हत्या कर रही है। आंदोलन में शामिल राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान पीडब्ल्यूडी मंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि भाजपा के शासनकाल में राजभवन राजनीति के अड्डे बन गए हैं। राज्य के पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नसीम खान ने कहा कि जिस तरह से भाजपा विपक्ष की निर्वाचित सरकारों को अस्थिर करने का काम कर रही है उससे न सिर्फ हमारा लोकतंत्र बल्कि समूचा संविधान ही खतरे में आ गया है।

आंदोलन में मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष पूर्व सांसद एकनाथ गायकवाड़ ने कहा कि राजस्थान में स्पष्ट बहुमत होने के बावजूद कांग्रेस की सरकार गिराने का भाजपा का प्रयत्न संविधान का अपमान और लोकतंत्र का गला घोंटने के समान है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री विधानसभा में अपना बहुमत साबित करना चाहते हैं लेकिन राज्यपाल विधानसभा का सत्र बुलाने में भी आनाकानी कर रहे हैं। लोगों द्वारा चुनी गई निर्वाचित सरकार के खिलाफ इस तरह का षड्यंत्र सीधे सीधे जनता के साथ धोखा है। कर्नाटक और मध्य प्रदेश के उदाहरणों ने यह साबित कर दिया है कि भाजपा सत्ता के लिए कितनी भूखी है।

राज्यपाल मिले ही नहीं

लोकतंत्र बचाओ आंदोलन के लिए कांग्रेसी राजभवन गए तो थे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को ज्ञापन सौंपने, लेकिन राज्यपाल सोमवार को राजभवन में थे ही नहीं। वह अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार नागपुर चले गए थे। बाद में कांग्रेसियों ने राज्यपाल के सचिव को ही ज्ञापन देकर काम चलाया।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here