सही समय पर भारत ने लिया सही फैसला, अन्य देशों के मुकाबले काबू में स्थिति: PM मोदी

0
63
.

लखनऊ। देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कोविड-19 की टेस्टिंग के लिए ICMR की तीन नई उच्च क्षमता की टेस्टिंग सुविधाओं का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लोकार्पण किया। यह टेस्टिंग सुविधाएं राष्ट्रीय संस्थानों ICMR नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कैंसर प्रिवेंशन एण्ड रिसर्च, नोएडा, ICMR -नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन रीप्रोडक्टिव हेल्थ (एनआईआरआरएच), मुम्बई एवं आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कॉलरा एण्ड एन्टेरिक डिज़ीजे़ज़ (एनआईसीईडी) कोलकाता में स्थापित की गयी हैं।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि जब तक कोविड-19 के लिए कोई दवा अथवा वैक्सीन नहीं बन जाती है, तब तक इसके संक्रमण से बचाव के लिए मास्क, ग्लव्स, सैनिटाइजर, दो गज की दूरी आदि का पालन जरूरी है। देश में जिस तरह से सही समय पर सही फैसले लिए गए, उससे भारत अन्य देशों के मुकाबले संभली हुई स्थिति में है। कोरोना वायरस के विरुद्ध भारत की सफलता से विश्व आश्चर्यचकित है। उन्होंने भरोसा जताया कि कोविड-19 से हम लड़ेंगे भी और जीतेंगे भी। पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली-एनसीआर, मुम्बई, कोलकाता देश में आर्थिक गतिविधियों के बड़े केन्द्र हैं। आज लोकार्पित नयी टेस्टिंग सुविधाओं से इन स्थानों में 10 हजार टेस्टिंग क्षमता की वृद्धि हो रही है। नयी टेस्टिंग सुविधाओं से उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र तथा पश्चिम बंगाल को कोविड-19 के विरुद्ध संघर्ष में उपयोगी व मददगार साबित होंगी। इन हाईटेक प्रयोगशालाओं में कोविड-19 के अलावा भविष्य में हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, एचआईवी, डेंगू सहित अन्य बीमारियों की जांच सुविधा उपलब्ध होगी।

प्रियंका गांधी ने CM योगी को लिखा पत्र, कहा- कानून व्यवस्था ठीक करें, जनता परेशान है

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि विश्व के अन्य देशों के मुकाबले कोविड-19 के संक्रमण से भारत में मृत्यु दर कम है तथा रिकवरी रेट काफी अधिक है। इसमें दिन प्रति दिन सुधार भी हो रहा है। वर्तमान में देश में कोविड-19 के संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 10 लाख पहुंचने वाली है। कोविड-19 के विरुद्ध संघर्ष में शुरु से ही यह प्रयास किया गया कि कोरोना स्पेसिफिक हेल्थ सिस्टम का निर्माण हो। इसके लिए शुरू में ही 15 हजार करोड़ रुपए आइसोलेशन सेण्टर, कोविड अस्पताल, टेस्टिंग, ट्रैकिंग आदि सुविधाओं के लिए दिए गए। पीएम मोदी ने कहा कि फिलहाल देश में 11 हजार से अधिक कोविड फैसिलिटी सेण्टर तथा 11 लाख से अधिक आइसोलेशन सेण्टर उपलब्ध हैं। मार्च, 2020 में जहां एक टेस्टिंग लैब थी, वहीं आज 1300 से अधिक प्रयोगशालाएं क्रियाशील हैं। वर्तमान में प्रतिदिन 05 लाख से अधिक टेस्ट हो रहे हैं। इन्हें बढ़ाकर 10 लाख करने का प्रयास किया जा रहा है।

वृद्ध, बच्चों और गर्भवती महिलाओं की मेडिकल टेस्टिंग को मिलेगी प्रथमिकता: CM योगी
इस दौरान पीएम मोदी ने बताया कि एक समय एन-95 मास्क आयात करना पड़ता था। आज देश में प्रतिदिन 03 लाख से अधिक एन-95 मास्क बनाए जाते हैं। वर्तमान में भारत प्रतिवर्ष 03 लाख वेंटीलेटर बनाने में सक्षम है। इसके साथ ही, मेडिकल ऑक्सीजन सेंटर की संख्या में भी वृद्धि हुई है। इससे देशवासियों का जीवन बच रहा है। जिन वस्तुओं का कभी आयात करना पड़ता था, आज उनका निर्यात सम्भव हो पा रहा है। इतने कम समय में इतना बड़ा फिजिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करना एक बड़ी उपलब्धि है।
प्रधानमंत्री जी ने कहा कि कोविड-19 के विरुद्ध संघर्ष के लिए मानव संसाधन तैयार करना एक बड़ी चुनौती थी। जितने कम समय में पैरामेडिकल स्टाफ, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकत्र्रियों आदि को प्रशिक्षण देकर कोरोना के विरुद्ध संघर्ष के लिए तैयार किया गया है, वह अभूतपूर्व है।

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here