शिवसेना के साथ सरकार बनाने पर महाराष्ट्र बीजेपी में तकरार

0
94
.
नितिन राउत: देवेंद्र फडणवीस के हाथ अंत मे सिर्फ कटोरा आएगानितिन राउत: देवेंद्र फडणवीस के हाथ अंत मे सिर्फ कटोरा आएगा
हाइलाइट्स

  • महाराष्ट्र में अभी महाविकास अघाड़ी गठबंधन की सरकार है
  • गठबंधन में शिवसेना के अलावा कांग्रेस और एनसीपी शामिल
  • महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष बोले- शिवसेना संग सरकार को तैयार
  • फडणवीस बोले- न ऐसी कोई बातचीत, न कोई प्रस्ताव आया

मुंबई

महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ सरकार बनाने को लेकर राज्य बीजेपी में भारी मतभेद उभरकर सामने आए हैं। महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील कहते हैं कि शिवसेना के साथ सरकार बनाने के लिए वे अभी भी तैयार हैं। वहीं, पूर्व सीएम और विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस कहते हैं कि ऐसा कुछ भी नहीं है। शिवसेना के साथ सरकार बनाने के लिए किसी तरह की कोई बातचीत नहीं चल रही है और न ही किसी तरह का कोई प्रस्ताव आया है और न गया है।

गौरतलब है कि सोमवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए महाराष्ट्र में अपने बूते पर सरकार बनाने की बात कही थी। उसके लिए अभी से ही जुट जाने की अपील भी की थी। इसके बावजूद भी प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने कहा कि शिवसेना के साथ नई सरकार बनाने के लिए के लिए हम (बीजेपी) तैयार हैं, लेकिन आगामी चुनाव पार्टी अपने दम पर लड़ेगी। उन्होंने आगे कहा कि शिवसेना अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को यदि लगता है कि एनसीपी और कांग्रेस हमारा मूल हिंदुत्व खत्म कर देगी और उद्धव की बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व से चर्चा में फॉर्म्युला तैयार हुआ, तो प्रदेश बीजेपी राज्य में शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने के लिए तैयार है।

पढ़ें: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष बोले- शिवसेना संग बना सकते हैं सरकार

उन्होंने याद दिलाया कि बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू और आरजेडी ने मिलकर चुनाव लड़ा था और बीजेपी चुनाव हार गई थी, पर बाद में जेडीयू ने बीजेपी के साथ मिलकर नई सरकार बनाई है। महाराष्ट्र में तो एनसीपी और कांग्रेस ने शिवसेना के विरोध में चुनाव लड़ा था। यदि केंद्रीय नेतृत्व का आदेश आया तो हम राज्य में शिवसेना के साथ सरकार बनाएंगे, लेकिन बीजेपी राज्य में कोई भी चुनाव शिवसेना से गठबंधन करके नहीं लड़ेगी। साथ ही उन्होंने यह भी साफ किया कि शिवसेना के साथ सरकार बनती है, तो मुख्यमंत्री पद शिवसेना को नहीं दिया जाएगा। बीजेपी को ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद मंजूर नहीं होगा।

पढ़ें: सामना के इतिहास में पहली बार…गैर शिवसेना नेता शरद पवार का इंटरव्यू



फडणवीस ने किया खंडन


उधर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष पाटील के बयान का देवेंद्र फडणवीस ने खंडन किया है। उन्होंने कहा कि शिवसेना के साथ सरकार बनाने का ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है और न ही किसी तरह की चर्चा है। उन्होंने पाटील के बयान पर सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने जो बात कही है, वह एक प्रश्न के उत्तर में कही थी। फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार बनाने के बारे में हमारी कोई बातचीत शिवसेना के साथ नहीं चल रही है और न ही हमने कोई प्रस्ताव शिवसेना को भेजा है। शिवसेना ने भी ऐसा कोई प्रस्ताव हमारे पास नहीं भेजा है। उन्होंने कहा कि मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूं कि आगामी विधानसभा चुनाव हम अकेले दम पर लड़ेंगे और सत्ता लाएंगे। रही बात इस सरकार की तो वह अपने आप ही गिर जाएगी।

पाटील-फडणवीस के बीच बढ़ा मतभेद

प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील के बयान को खारिज करने में पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने किसी प्रकार की कोई देरी नहीं की। दोनों के बयान एक-दूसरे के विपरीत हैं। इससे माना जा रहा है कि सरकार बनाने को लेकर पार्टी के अंदर ही भारी मतभेद है। ऐसा नहीं होता तो सोमवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने जहां अकेले चुनाव लड़ने की बात कही वहीं बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने शिवसेना के साथ सरकार बनाने का बयान दिया। वर्तमान बयानबाजी से बीजेपी के अंदर ही विरोध होने लगा है। पार्टी की भूमिका को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं कि आखिर पार्टी पाटील के बयान पर भरोसा करें या फिर फडणवीस के बयान पर। फिलहाल तो मामला गरम है और इसे पाटील और फडणवीस के बीच बढ़ते मतभेद के तौर पर देखा जा रहा है।

उद्धव ठाकरे और देवेंद्र फडणवीस

उद्धव ठाकरे और देवेंद्र फडणवीस

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here