COVID-19: कोरोना को चुनौती देगी मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री, IPL पर टिकी हैं निगाहें  | meerut – News in Hindi

0
55
.
COVID-19: कोरोना को चुनौती देगी मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री, IPL पर टिकी हैं निगाहें 

मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री ने जज्बा दिखाया है वो तारीफ के काबिल है.

अक्टूबर में दुबई (Dubai) में होने जा रहे आईपीएल (IPL) से उद्यमियों को ख़ास उम्मीद हैं. क्रिकेट (Cricket) कारोबारियों का कहना है कि अगर आईपीएल सफल रहा तो उनका उद्योग फिर से रफ्तार पकड़ लेगा.

मेरठ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) का मेरठ (Meerut) वो शहर है जिसे स्पोर्ट्स सिटी के तौर पर पूरे विश्व में जाना जाता है. क्रिकेट खेलने वाला हर देश और यहां के खिलाड़ी मेरठ के नाम से जरूर परिचित हैं. आए दिन यहां विदेशी खिलाड़ी आते रहते हैं और यहां का बैट ले जाते हैं. लेकिन कोरोनाकाल ने मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री (Sports Industry) की कमर तोड़कर रख दी. लेकिन कहते है न कि हर रात के बाद सुबह आती है. मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री भी एक बार फिर से उठ खड़े होने को बेताब है. अर्से बाद क्रिकेट के उपकरण बनाने वाली कम्पनियों के ताले खुल गए हैं. उद्यमियों के साथ-साथ कारीगरों को भी उम्मीद जगी है कि फिर से वही दिन लौटेंगे जिसके लिए मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री जानी जाती रही है. कम से कम अक्टूबर में दुबई में होने जा रहे आईपीएल से उद्यमियों को ख़ास उम्‍मीद हैं. क्रिकेट (Cricket) कारोबारियों का कहना है कि अगर आईपीएल सफल रहा तो उनका उद्योग फिर से रफ्तार पकड़ लेगा.

उद्यमियों  का कहना है कि कारोबार को रफ्तार तभी मिलेगी जब खिलाड़ी मैदान पर पहुंचेंगे. दुनियाभर में ज्यादातर देशों में स्टेडियम और ट्रेनिंग कैंप सूने पड़े हैं. लेकिन अगर अक्टूबर में आईपीएल शुरू हुआ तो बिजनेस बढ़ेगा. क्रिकेट कारोबारियों का कहना है कि अगर भारत और पाकिस्तान के बीच एक बार फिर से मैच हो जाए तो उनका उद्योग दिन दोगुनी रात चौगुनी बढ़ जाएगा और फिर से वही पुराने दिन लौट आएंगे.

मेरठ स्पोर्ट्स इंडस्ट्री ने दिखाया जज्बा

क्रिकेट के कारोबारियों का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी हमेशा से आत्मनिर्भर बनने की बात करते हैं. पीएम मोदी का ये संकल्प वो सदैव याद रखते हैं. इसी आत्मनिर्भरता की वजह से मेरठ की स्पोर्टस इंडस्ट्री ने अपनी धाक पूरे विश्व में जमाई है. उद्यमियों का कहना है कि स्पोर्ट्स के कारोबार में आत्मनिर्भर मेरठ और जालंधर को ओवरपावर करके प्लयेर्स को बड़ी-बडी फीस दे दी जाती है. क्रिकेट के बैट पर उन कम्पनियों का नाम आ जाता है जिन्होंने शायद ही कभी क्रिकेट के बैट बनाए हों. इन कम्पनियों का कहना है कि आत्मनिर्भरता फल भी उनको मिले.

आईपीएल होने से कारोबार का माहौल जरूर बनेगा.

ये भी पढ़ें: Delhi Violence:वकीलों के पैनल को कैबिनेट ने किया खारिज, केजरीवाल सरकार पर BJP का बड़ा आरोप

मेरठ में एसएस, एसजी एसएफ, बीडीएम प्रीमियर, एसएम और नेल्को समेत कई कम्पनियों बल्ला बनाने का काम करती हैं. यहां के कारोबारियों का कहना है कि आईपीएल से एक शुरुआत हो सकती है, लेकिन स्कूल मैदान एकेडमी स्टेडियम और बाज़ारों के खुलने पर ही कारोबार बढ़ेगा. अब आईपीएल होने से कारोबार का माहौल जरूर बनेगा. लेकिन कोरोनाकाल के दौरान जिस तरह से मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री ने जज्बा दिखाया है वो तारीफ के काबिल है.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here