Raksha Bandhan 2020-Coronavirus Hit On Festive Demand, Rakhi Sales Down By 30 Percent, Happy Raksha Bandhan Images, Rakhi Date 2020-त्यौहारी मांग पर कोरोना की मार, 30 फीसदी घटी राखी की बिक्री

0
47
.

नई दिल्ली:

Raksha Bandhan 2020: रक्षाबंधन (Happy Raksha bandhan) पर इस साल बाजार की त्योहारी रौनक कोरोना वायरस (Coronavirus) की भेंट चढ़ गई है. भाई-बहन के पवित्र रिश्ते के इस त्योहार से पहले बाजार रंग-बिरंगी राखियों से सज जाता था. हालांकि बाजार में राखियां (Rakhi Ka Muhurat 2020) बिक रही हैं, लेकिन बाजार की रौनक गायब है, क्योंकि खरीदारों में वैसा उत्साह नहीं है. राखी विक्रेताओं ने बताया कि लोग राखी खरीद रहे हैं, लेकिन पहले जिस प्रकार महंगी और आकर्षक राखी की मांग होती थी, इस बार वैसी मांग नहीं है, बस त्योहारी रस्म निभाने के लिए लोग राखियां खरीद रहे हैं.

यह भी पढ़ें: Closing Bell: सेंसेक्स में 422 प्वाइंट की तेज गिरावट, 11,250 के नीचे बंद हुआ निफ्टी

कोरोनावायरस संक्रमण के कारण कई जगहों पर नहीं है दुकानें खोलने की इजाजत
कोरोनावायरस संक्रमण के कारण कई जगहों पर दुकानें खोलने की इजाजत नहीं है, जिससे राखी विनिर्माताओं के कारोबार पर असर पड़ा है. फरीदाबाद के राखी विनिर्माता सौरभ मंगला ने बताया कि कोरोना के कारण राखी की बिक्री पिछले साल के मुकाबले इस साल घरेलू बाजार में करीब 30 फीसदी घट गई है. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की वजह से कई राज्यों में इस साल राखी की सप्लाई नहीं हो पाई और विदेशी मांग में 50 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई. राखी की निर्यात मांग पर कोरोना का असर तो पड़ा ही है, विदेशों में भाइयों को बहनें जो राखी भेजती थीं, वे इस साल कई देशों में नहीं भेज पाई हैं. भारतीय डाक विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक, इस साल इस सिर्फ 25 देशों में ही स्पीड पोस्ट के जरिए राखी भेजने की सुविधा उपलब्ध है.

यह भी पढ़ें: Jet Airways को हो गया 5,500 करोड़ रुपये से ज्यादा का घाटा, जानिए क्या रही वजह

डाक विभाग के कंप्यूटर पर विदेशों के लिए स्पीड पोस्ट की सुविधा के लिए जिन देशों को चुनने का विकल्प उपलब्ध है, उनमें आस्ट्रिया, बहरीन, बांग्लादेश, बेल्जियम, भूटान, कनाडा, डेनमार्क, फिनलैंड, फ्रांस, जर्मनी, हंगरी, इटली, मैक्सिको, नीदरलैंड, नार्वे, ओमान, फिलीपींस, सऊदी अरब, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, यूक्रेन, संयुक्त अरब अमीरात, यूनाइटेड किंगडम, अमेरिका और वियतनाम शामिल हैं. हालांकि कूरियर सेवा कुछ अन्य देशों के लिए भी उपलब्ध हैं. एक नामी कूरियर सेवा प्रदाता कंपनी के अधिकारी ने बताया कि पिछले वर्षो की तरह इस साल रक्षाबंधन पर विदेशों में राखी भेजने की मांग कम है.

यह भी पढ़ें: भारत के पहले पायलट और Air India के पहले चेयरमैन JRD Tata का आज है जन्मदिन, जानें उनके जीवन से जुड़े दिलचस्प किस्से

गिफ्ट शॉप के एक कर्मचारी ने बताया कि पिछले वर्षों की तरह इस साल रक्षाबंधन पर गिफ्ट और महंगी राखियों की मांग नहीं है. उन्होंने कहा कि चीनी एसेसरी से बनी राखियां इस बार बाजार से नदारद हैं. सौरभ मंगल ने बताया कि दरअसल, लोगों ने इस साल चीन से आयातित लाइटिंग के सामान और खिलौने युक्त लुभावने राखियां नहीं बनाई हैं, क्योंकि रस्ती और साधारण राखियां ही लोग पसंद कर रहे हैं. फेडरेशन ऑफ स्वीट्स एंड नमकीन मैन्युफैक्चर्स के डायरेक्टर फिरोज नकवी ने बताया कि रक्षाबंधन पर मिठाई और नमकीन की बिक्री भी इस साल ठंडी पर गई है. उन्होंने कहा कि कई जगहों पर लॉकडाउन के कारण दुकानें नहीं खुल रही हैं, जिससे बिक्री पर असर पड़ा है. उन्होंने कहा कि आमतौर पर महीने में कोई दुकानदार जितनी मिठाई व नमकीन बेचता है, उससे कहीं ढाई गुनी बिक्री सिर्फ रक्षाबंधन पर होती है, लेकिन इस बार त्योहारी सीजन की शुरुआत में ही बाजार की रौनक कोरोना की भेंट चढ़ गई है.


Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here