प्रेग्नेंसी में सेक्स करना सही या गलत, जरूर जान लें ये खास बातें | health – News in Hindi

0
132
.
प्रेग्नेंसी में सेक्स करना सही या गलत, जरूर जान लें ये खास बातें

प्रेग्नेंसी के दौरान सुरक्षित शारीरिक संबंधों का विशेष ख्याल रखें.
Image Credit/Pexels

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं. हार्मोन्स (Hormones) बदलते हैं और शारीरिक परिवर्तन भी महसूस होते हैं और साथ ही प्यार (Love) की ज्यादा जरूरत महसूस होती है.




  • Last Updated:
    July 31, 2020, 1:29 PM IST

सेक्स जीवन का अहम हिस्सा है, लेकिन इसके लिए सावधानी बरतना भी उतनी ही जरूरी है. सेक्स (Sex) के बारे में एक सवाल कई लोगों के मन में उठता है कि पार्टनर के प्रेग्नेंट (Pregnant) होने के दौरान शारीरिक संबंध (Physical Relationship) बनाए जाने चाहिए या नहीं? प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं. हार्मोन्स (Hormones) बदलते हैं और शारीरिक परिवर्तन भी महसूस होते हैं और साथ ही प्यार (Love) की ज्यादा जरूरत महसूस होती है. वैसे भी सेक्स महज शारीरिक सुख नहीं है. इसका भावनाओं से भी उतना ही लगाव है.

खास बात यह है कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को सेक्स में अधिक आनंद की प्राप्ति होती है. इसका कारण है कि जननांगों में बढ़ा हुआ रक्त प्रवाह उन्हें अति संवेदनशील बना सकता है. साथ ही गर्भावस्था के दौरान स्तन अधिक संवेदनशील हो जाते हैं. कुल मिलाकर गर्भावस्था के दौरान सेक्स किया जा सकता है, लेकिन कुछ सावधानियां भी जरूर बरतनी होंगी. जानिए इसी से जुड़ी कुछ जरूरी बातें –

  • प्रेग्नेंसी के किसी भी स्तर (हर तीन महीने) पर सेक्स सुरक्षित होता है और इससे कोख में पल रहे शिशु को नुकसान नहीं होगा. महिलाओं को गर्भपात या दर्द का डर रहता है, लेकिन जब तक दूसरी जटिलताएं नहीं हैं, ऐसा कुछ नहीं होता है. अगर मन में ऐसे डर हैं तो डॉक्टर से जरूरत बात करनी चाहिए. कहीं जोखिम है तो डॉक्टर चेक करने के बाद जरूरी सलाह दे देंगी.
  • myUpchar से जुड़े डॉ. विशाल मकवाना के अनुसार प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स का एक फायदा यह होता है कि मांसपेशियां प्रसव के लिए मजबूत हो जाती हैं. इम्यून सिस्टम मजबूत होता है.
  • सेक्स के दौरान भ्रूण को नुकसान नहीं पहुंचता है, क्योंकि सेक्स में उपयोग आने वाले अंग अलग हैं. इस प्रक्रिया का भ्रूण से कोई संबंध नहीं है. शिशु के आसपास एमनियोटिक द्रव का घेरा होता है जो उसे सुरक्षित रखता है. वह गर्भाशय में एमनियोटिक थैली से लिपटा होता है. सेक्स के दौरान पेनेट्रेशन योनि में होता है और इससे गर्भाशय पर बिल्कुल असर नहीं होता है.
  • प्रेग्नेंसी के दौरान सुरक्षित शारीरिक संबंधों का विशेष ख्याल रखें. क्योंकि यदि इस समय एसटीडी यानी सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज (सेक्स के कारण होने वाली बीमारी) होती है, तो यह मुश्किल पैदा कर सकती है. कंडोम का इस्तेमाल करें और अंगों की साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें.
  • सेक्स के दौरान अपना ख्याल रखें. ऐसी पॉजिशन चुनें जहां आराम मिले और कोख पर ज्यादा दबाव न पड़े. महिलाओं को इस दौरान पीठ के बल लेटने से बचना चाहिए.
  • myUpchar से जुड़े डॉ. विशाल मकवाना के अनुसार प्रेग्नेंसी के दौरान ओरल सेक्स सुरक्षित होता है, लेकिन ध्यान रखें कि पार्टनर योनि में हवा न डाले. इससे योनि में हवा के बुलबुले बन सकते हैं और रक्त वाहिका में रुकावट का कारण बन सकते हैं. यह शिशु के लिए नुकसानदायक हो सकता है.
  • यदि योनि से खून बह रहा है तो सेक्स बिल्कुल न करें. इससे जटिलता बढ़ सकती है. इसी तरह अगर भ्रूण में शिशु को आवरण देने वाला तरल पदार्थ लीक कर रहा है तो बेहतर होगा सेक्स से बचें.
  • अगर गर्भाशय ग्रीवा कमजोर है, तो सेक्स का बुरा असर शिशु पर पड़ सकता है. डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.
  • अगर इससे पहले गर्भपात हुआ है तो भी डॉक्टर की सलाह के बिना प्रेग्नेंसी में सेक्स नहीं करना चाहिए.

ये भी पढ़ें – बारिश के मौसम में जल्द घेरती हैं बीमारियां, ऐसे करें बचाव
सबसे महत्वपूर्ण यह कि पार्टनर से जरूर बात करें
जीवन के इस मोड़ पर भी पार्टनर के बीच तालमेल बहुत जरूरी है. ऐसा नहीं है कि प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स करना ही है. एक-दूसरे को समझें, उनकी जरूरत और स्थिति को समझें. आत्मीयता बनाए रखने के लिए सेक्स एक मात्र तरीका नहीं है. कपल एक-दूसरे को किस कर सकते हैं, एक-दूसरे को थाम सकते हैं.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गर्भावस्था में सेक्स के फायदे, तरीका और पोजिशन पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here