सावधान! घाघरा नदी में तूफान आना तय, शुरु हुआ पलायन, प्रशासन ने नहीं की मदद

0
88
.

यूपी: लगतार बैराजों में बढ़ते पानी के स्तर से बाढ़ का साफ अंदाजा लगाया जा सकता है और तूफान आना लगभग तय भी है। आपको बतादें कि इतने बढ़े खतरे को जिम्मेदार नजर अंदाज कर रहे हैं।  बता दें कि गुरुवार रात से ही जब नदी का जलस्तर बढ़ा तो नकहरा गांव के 9 मजरे पानी में डूब गए। वही दूसरी ओर बेहटा, परसावल, नेपुरा सहित माझा रायपुर में घाघरा में तो पानी ने हाहाकार मचा दिया।

वाह रे राबिया दादी! आपने तो 105 वर्ष की उम्र में कोरोना की छुट्टी ही कर दी

जब इस जगह का दौरा किया गया तब पता चला कि नकहरा गांव लगभग जलमग्न हो चुका है। और यहां पर पलायन भी शुरु हो चुका है। लोग लगातार सुरक्षित जगह पर जा रहे हैं। इन हालातों में सबसे ज्यादा दिक्कत पशुओं के लिए हो गई है क्योंकि इस वक्त उनको खाने के लिए न तो चारा मिल रहा है और न ही रहने के लिए सुरिक्षत स्थान। आपको बता दें कि नकहरा गांव की लगभग पूरी आबादी खतरे में है।

बकरीद पर मौलाना खालिद रशीद ने लोगों से की अपील, कहा-घरों में ईदुल अजहा की नमाज अदा करें

अगर बात की जाए प्रशासनिक मदद की तो अभी तक यहां कोई भी सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जा सकी है। कागजों में सिर्फ बाढ़ केंद्र गौरा सिंहपुर को सक्रिय दिखाया गया है। मौके पर केवल हल्का लेखपाल तेज बहादुर ही दिखाई दिए।

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here