Mukesh Ambani gave a big statement, 2G services should now become a part of history-2जी सेवाओं को अब इतिहास का हिस्सा बन जाना चाहिए, मुकेश अंबानी ने दिया बड़ा बयान

0
43
.

मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने कहा कि 2जी दौर के फीचर फोन की वजह से ऐसे समय करीब 30 करोड़ उपभोक्ता मूल इंटरनेट सेवाओं से दूर हैं, जबकि देश और कई अन्य देश 5जी के दौर में प्रवेश की तैयारी कर रहे हैं.

Bhasha | Updated on: 31 Jul 2020, 04:35:46 PM

Mukesh Ambani

मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने कहा है कि 2जी सेवाओं को अब इतिहास का हिस्सा बन जाना चाहिए. उनके इस बयान के बाद दूसरी टेलिकॉम कंपनियों में खलबली मच सकती है. अंबानी ने शुक्रवार को कहा कि 2जी सेवाओं (2G Services) से हटने के लिए तत्काल नीतिगत उपायों की जरूरत है. उन्होंने कहा कि ये सेवाएं 25 साल पहले शुरू हुई थीं और अब इसे इतिहास का हिस्सा बनाने की जरूरत है.

2जी की वजह से करीब 30 करोड़ उपभोक्ता मूल इंटरनेट सेवाओं से दूर: अंबानी
देश में पहली मोबाइल फोन कॉल की रजत जयंती के अवसर पर अंबानी ने कहा कि 2जी दौर के फीचर फोन की वजह से ऐसे समय करीब 30 करोड़ उपभोक्ता मूल इंटरनेट सेवाओं से दूर हैं, जबकि देश और कई अन्य देश 5जी के दौर में प्रवेश की तैयारी कर रहे हैं. अंबानी ने कहा कि मैं विशेषरूप से इस तथ्य की ओर ध्यान दिलाना चाहता हूं कि देश में अब भी 30 करोड़ मोबाइल ग्राहक 2जी के दौर में ‘फंसे’ हुए हैं. फीचर फोन की वजह से ये लोग ऐसे समय इंटरनेट के इस्तेमाल से दूर हैं जबकि भारत और शेष दुनिया 5जी टेलीफोनी के दौर में प्रवेश की तैयारी कर रही है.

सस्ते स्मार्टफोन पेशकर भारत को 2जी से मुक्त कराएगी रिलायंस जियो

उन्होंने कहा कि 2जी को अब इतिहास का हिस्सा बनाने के लिए आवश्यक कदम उठाने की जरूरत है. इससे पहले अंबानी ने घोषणा की थी कि रिलायंस इंडस्ट्रीज की दूरसंचार इकाई जियो फीचर फोन के स्थान पर सस्ते स्मार्टफोन पेशकर भारत को 2जी से मुक्त कराने का प्रयास करेगी.


First Published : 31 Jul 2020, 04:35:46 PM

For all the Latest Business News, Telecom News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here