दिल्ली: कोरोना काल में घर बने स्कूल, अभिभावकों को मनीष सिसोदिया का धन्यवाद

0
89
.

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण ने पूरी दुनिया में कहर बरपा रखा है। लोगों के कारोबार से लेकर बच्चों के स्कूलों तक पर प्रतिबंध लगा हुआ है। ऐसे बच्चों की पढ़ाई पर बहुत बुरा असर पड़ा है। बच्चों को पिछले काफी समय से शिक्षक ऑनलाइन क्लासेस के माध्यम से पढ़ा रहे हैं। इसी सिलसिले में शुक्रवार को मनीष सिसोदिया ने को एसकेवी, चिराग दिल्ली में शिक्षकों और अभिभावकों के साथ संवाद किया।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि स्कूल का कोई विकल्प नहीं है। स्कूल जाने से बच्चों का सर्वांगीण विकास होता है। इसलिए हम चाहते हैं कि जितनी जल्दी हो सके स्कूल खुलें। मनीष सिसोदिया ने कहा कि अभी बच्चों को नुकसान ना हो, इसके लिए हमने ऑनलाइन शिक्षा का प्रयोग किया है। बैठक में उप मुख्यमंत्री ने कोरोना संकट में ऑनलाइन शिक्षा की सफलता का श्रेय अभिभावकों और शिक्षकों को देते हुए कहा कि सरकार ने सिर्फ सुविधा बढ़ाई है, बाकी सारी मेहनत तो आपने की है।

मुख्तार अंसारी के करीबी के करीबी जुगनू वालिया की 3 करोड़ की संपत्ति कुर्क

साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि कोरोना महामारी मानव जाति का सबसे बड़ा संकट है। जब सारी चीजें बंद हैं, उस स्तिथि में भी हमें बच्चों को पढ़ाना है। आपको बता दें कि मनीष सिसोदिया  ने अभिभावकों से मिले सहयोग के लिए उन्हें धन्यवाद कहा साथ ही ये भी कहा कि आपने घर को ही स्कूल बना दिया, यह बहुत बड़ी बात है।

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here