बच्चों के लिए खतरनाक हो सकता है हैंड सैनिटाइजर, रखें इन बातों का ध्यान | health – News in Hindi

0
47
.
बच्चों के लिए खतरनाक हो सकता है हैंड सैनिटाइजर, रखें इन बातों का ध्यान

हैंड सैनिटाइजर के नुकसान

बाजार में मिलने वाले हैंड सैनिटाइजर (Hand Sanitizers) में कई तरह के रसायन डाले जाते हैं, जिनसे बच्चों में एलर्जी होने की आशंका होती है. इसके बजाए कोई ऑर्गेनिक या हर्बल सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए.




  • Last Updated:
    August 6, 2020, 4:33 PM IST

बदलते मौसम व संक्रमण के प्रति बच्चे ज्यादा संवेदनशील होते हैं. ऐसे में बैक्टीरिया या वायरस उन्हें जल्दी बीमार कर देते हैं. इस बीच, कोरोना वायरस के संक्रमण के इस दौर में बच्चों के लिए बार-बार हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करना क्या सुरक्षित है और बच्चों के लिए हैंड सैनिटाइजर कितना घातक हो सकता है. ऐसे तमाम सवाल इन दिनों माता-पिता के मन में रहते हैं. myUpchar के अनुसार, विश्व स्वास्थ्य संगठन और भारत सरकार ने भी लोगों को नियमित रूप से अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर से हाथ साफ करने की सलाह दी है. इसके बाद से बाजार में हैंड सैनिटाइजर की बाढ़ आ गई है. बच्चों पर इनके उपयोग के समय विशेष सावधानी बरती जाना जरूरी है.

रोग प्रतिरोधक क्षमता पर प्रभाव डालता है सैनिटाइजर

बच्चों द्वारा ज्यादा हैंड सैनिटाइजर के उपयोग से उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो सकती है. कुछ अच्छे बैक्टीरिया भी होते हैं, लेकिन जब बच्चा किसी बैक्टीरिया के संपर्क में नहीं आएगा तो इम्यूनिटी यानी बीमारी से लड़ने की ताकत पर असर पड़ेगा.कुछ ऐसी सफेद रक्त कोशिकाएं होती हैं, जो मेमोरी टी-सेल्स कहलाती हैं. ये उन बैक्टीरिया को याद रखती है, जो शरीर में पिछली बार आए थे और इनसे ये टी-सेल्स लड़ीं थी. आगे यदि उसी बैक्टेरिया का हमला होता है तो ये टी-सेल्स फिर से उनसे लड़कर इन बैक्टीरिया को जल्दी हरा देती हैं और नए वायरस से लड़ने के लिए तैयार हो जाती हैं. इसका मतलब है कि यदि किसी बैक्टीरिया के संपर्क में आते है तो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली उनसे लड़कर मजबूत हो जाती है और भविष्य में किसी नए बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम हो जाती है. इसलिए बच्चों की भी इम्यूनिटी मजबूत रखनी है, तो उनकी जरूरत से ज्यादा सफाई का ख्याल भी ना रखें.

गांव के बच्चे इसलिए नहीं पड़ते ज्यादा बीमार

एक सामान्य धारणा है कि गांव के लोग ज्यादा स्वस्थ रहते हैं. विशेषकर बच्चों की भी बात करें तो शहरी बच्चों की तुलना में मौसमी बीमारियों का प्रकोप उन पर कम रहता है, क्योंकि ग्रामीण इलाकों में बच्चे मिट्टी में खेलते हैं. मिट्टी में खेलने के कारण भी उनकी इम्युनिटी मजबूत हो जाती है. इसलिए बच्चों की इम्युनिटी ठीक करने के लिए कभी-कभी स्वच्छ खेत की मिट्टी में खेलने देना चाहिए.

हैंड सैनिटाइजर से एलर्जी की समस्या

बच्चों को जरूरत से ज्यादा हैंड सैनिटाइजर लगाने से एलर्जी की समस्या भी हो सकती है. बाजार में मिलने वाले हैंड सैनिटाइजर में कई तरह के रसायन डाले जाते हैं, जिनसे बच्चों में एलर्जी होने की आशंका होती है. इसके बजाए कोई ऑर्गेनिक या हर्बल सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए. इससे किसी भी प्रकार के साइड इफेक्ट्स नहीं होंगे.

कब करें हैंड सेनिटाइजर का इस्तेमाल

हैंड सैनिटाइजर का बार-बार उपयोग करना बच्चों की सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है. जब बच्चों के साथ बाहर घूमने जाएं तभी हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करें या फिर यदि किसी बीमार रिश्तेदार से मिलने जा रहे हो तो भी सैनिटाइजर लगाना जरूरी होता है. लेकिन यदि घर पर बच्चे बार-बार खिलौनों को छूते हैं तो बार-बार उनके हाथ सैनिटाइजर लगाने की आवश्यकता नहीं है.

myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन के अनुसार, अभी कोरोना वायरस का इलाज नहीं मिला है और जब तक इसका टीका या दवा इजाद नहीं हो जाते, सावधानी ही जरूरी है. हैंड सैनिटाइजर जरूरी है, लेकिन इसका अधिक उपयोग नुकसान पहुंचा सकता है. इसलिए जरूरत के मुताबिक उपयोग करें और किसी तरह से रिएक्शन के संकेत मिले तो तत्काल डॉक्टर को दिखाएं. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, घर पर ही इस तरह से बनाएं सैनिटाइजर पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here