प्रयागराज: हाईकोर्ट के वकील अभिषेक शुक्ला को बदमाशों ने मारी गोली, अतीक अहमद गैंग से जुड़े तार | allahabad – News in Hindi

0
25
.

घायल अधिवक्ता अभिषेक शुक्ला

वारदात की सूचना मिलते ही धूमनगंज थाना क्षेत्र के राजरूपपुर चौकी (Rajrooppur Police Chowki) में बड़ी संख्या में अधिवक्ता पहुंच गए. आक्रोशित अधिवक्ताओं ने जल्द से जल्द आरोपियों की गिरफ़्तारी मांग की. साथ ही सड़कों पर उतरने की चेतावनी भी दी.

प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज में बेख़ौफ़ अपराधियों ने रविवार रात इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के युवा अधिवक्ता अभिषेक शुक्ला (Advocate Abhishek Shukla) को गोली मार दी. अभिषेक शुक्ला को गंभीर हालत में एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है. घायल अधिवक्ता हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के संयुक्त सचिव (प्रशासन) हैं. राजरूपपुर चौकी क्षेत्र के जागृति चौराहे के पास बदमाशों ने उन्हें गोली मारी. वारदात की सूचना मिलते ही धूमनगंज थाना क्षेत्र के राजरूपपुर चौकी में बड़ी संख्या में अधिवक्ता पहुंच गए. आक्रोशित अधिवक्ताओं ने जल्द से जल्द आरोपियों की गिरफ़्तारी  मांग की. साथ ही सड़कों पर उतरने की चेतावनी भी दी.

बताया जा रहा है कि नीमसराय निवासी अधिवक्ता अभिषेक शुक्ला रविवार रात सवा नौ बजे के करीब राजरूपुपर में जागृति चौराहे के पास अपने साथियों संग खड़े थे. इसी दौरान वहां बाइक से पहुंचे चार बदमाशों ने उन पर फायर कर दिया. इस फायरिंग में अधिवक्ता बाल-बाल बचे तो हमलावरों ने मारपीट शुरू कर दी. यह देख आसपास के लोग दौड़े तो हमलावर अधिवक्ता की सोने की चेन व लॉकेट लूटकर भाग निकले.

हमलावरों के तार अतीक अहमद गैंग से
एडीजी प्रेम प्रकाश ने बताया कि रविवार देर शाम बदमाशों ने अधिवक्ता अभिषेक शुक्ला पर फायरिंग की. गोली अधिवक्ता को नहीं लगी. इसके बाद उनके साथ मारपीट की गई. उन्होंने बताया कि कहा जा रहा है कि हमलवार अतीक अहमद गैंग से जुड़े हैं. पुलिस सभी आरोपियों की तलाश कर रही है.वकीलों का हंगामा

उधर वारदात की जानकारी मिलते ही सैकड़ों की संख्या में अधिवक्ता मौके पर पहुंच गए और उन्होंने राजरूपपुर पुलिस चौकी का घेराव कर रास्ता जाम कर दिया. इस दौरान उनकी पुलिसकर्मियों से तीखी नोकझोंक और धक्कामुक्की भी हुई. उनका आरोप था कि सूचना देने के बावजूद धूमनगंज थाने व चौकी की पुलिस ने तत्परता नहीं दिखाई. यही नहीं प्रभारी की अनुपस्थिति में वहां मौजूद  दरोगा ने अभद्रता भी की. अधिवक्ताओं का कहना था कि आज वकील इ सुरक्षित नहीं है. अगर आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी नहीं होती तो वे सड़कों पर उतरने के लिए मजबूर होंगे.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here