बच्‍चों की डाइट में शामिल करें ये चीजें, आंखों की रोशनी हमेशा रहेगी तेज | parenting – News in Hindi

0
19
.
आजकल के बच्‍चे (Child) मोबाइल, कंप्यूटर और टेलिविजन (Television) के साथ ज्यादा समय बिताते हैं. ये काम बच्चे आज के समय में बहुत कम उम्र में शुरू कर देते हैं. लेकिन इनका गलत असर बच्चों की आंखों (Eyes) पर पड़ता है. हालांकि आज समय के साथ मोबाइल (Mobile) और कंप्यूटर बच्चों की जरूरत बन गई है. ऐसे में गैजेट्स के यूज के साथ ही आप बच्चों की डाइट (Diet) में कुछ चीजों को शामिल कर सकते हैं. इससे बच्चों की आंखों को होने वाला नुकसान कम होगा. आइए हम आपको बता रहे हैं कि बच्चों की डाइट में कौन सी चीजें शामिल करनी हैं….

हरी पत्तेदार सब्जियां
एनबीटी की खबर के अनुसार बच्चों के आंखों की रोशनी लंबी उम्र तक बनी रहे इसके लिए आपको बच्चों की डाइट में हरी सब्जियां शामिल करनी चाहिए. क्योंकि इसमें कैरोटीनोइड के एंटी ऑक्‍सीडेटिव गुण होते हैं, जो आंखों को फ्री रेडिकल्‍स से दूर रखते हैं. विटामिन ए युक्‍त हरी पत्तेदार सब्जियों में कैरोटीनोइड भरपूर मात्रा में पाया जाता है. इनमें अन्‍य विटामिन और खनिज पदार्थ जैसे कि कैल्शियम, विटामिन सी और विटामिन बी12 भी पाया जाता है. इसलिए आप बच्‍चों की डाइट में ब्रोकली, केला और पालक को शामिल कर सकते हैं. पालक में ल्‍यूटिन और जीएक्‍सेंथिन होता है जो आंखों की रोशनी को बढ़ाता है.

हाउस वाइफ बिना एक्सारसाइज किए घटा सकती हैं अपना वजन, अपनाने होंगे ये तरीकेमछली

मछली में हेल्‍दी ओमेगा 3 फैटी एसिड होते हैं जो आंखों की रेटिना के लिए फायदेमंद होते हैं. ओमेगा 3 फैटी एसिड दिमाग को तेज करता है, जिससे आंखों की मांसपेशियों को भी मजबूत होती हैं और आंखों की रोशनी बढ़ती है. इसलिए आप बच्‍चे को सैल्‍मन और ट्यूना फिश खिला सकते हैं.आप उसे फिश ऑयल पिल्‍स भी दे सकती हैं.

​दाल, सूखे मेवे और बीज
दालों में भरपूर मात्रा में बायोफल्‍वेनोइड और जिंक होता है. यह आंखों के रेटिना को डैमेज होने से बचाता है. बच्‍चों की आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए काली दाल और राजमा खिला सकते हैं, राजमा में भरपूर मात्रा में प्रोटीन होता है. इसके अलावा ड्राई फ्रूट्स जैसे कि पिस्‍ता, काजू, बादाम, अखरोट और मूंगफली भी आंखों की रोशनी को बढ़ाते हैं. इनमें विटामिन ई पाया जाता है. यह प्राकतिक रूप से बच्‍चों में मायोपिया के खतरे को कम करता है. इनमें फैटी एसिड और विटामिन ई होता है जो ड्राई आईज को रोकता है. अलसी के बीज और चिया के बीज खाने से भी आंखों से संबंधित परेशानी खत्म होती है.

इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत बनाने के लिए रोज करें ये चार योगासन, नहीं पड़ेंगे बीमार

सिट्रस और पीले रंग के फल
फलों में विटामिन पाया जाता है. नींबू, टमाटर, अमरूद और संतरा सिट्रस फलों को खाने से कई तरह के विटामिन शरीर को मिलते हैं. इन फलों को खाने से आंखों को सूर्य की रोशनी से होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है. आडू, आम और पपीता, पीले रंग के फल आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. इन फलो में बीटा कैरोटीन और लाइकोपिन पाया जाता है, जिससे आंखों की रोशनी बढ़ती है.

​एवोकाडो और अंडा
एवोकाडो में काफी ज्यादा ल्‍यूटिन पाया जाता है. ल्‍यूटिन एक कैरोटीनोइड विटामिन है जो मोतियाबिंद जैसी आंखों से जुड़ी परेशानियों से हमें बचाता है. इससे बच्‍चों के आंखों की रोशनी तेज होती है. वहीं अंडे विटामिन ए और प्रोटीन पाया जाता है. इनमें ल्‍यूटिन नामक एंटीऑक्‍सीडेंट होता है जो मैकुलर डिजेनरेशन और आंखों की रोशनी को कम होने से बचाता है. इससे आंखें ठीक तरह से काम करती हैं. आप अपने बच्‍चे को रोज एक एवोकाडो और अंडा जरूर खिलाएं.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here