कोरोना को रोकना है तो सर्विलांस का सशक्त होना जरूरी: CM योगी

0
26
.

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को बरेली मंडलायुक्त कार्यालय के सभागार में आहूत एक बैठक में कोविड-19 के सम्बन्ध में बरेली मण्डल में किए गए चिकित्सा उपायों तथा इससे जुड़े प्रशासनिक कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार कोविड-19 के मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं उपलब्घ करा रही है। यदि हम कोरोना से दस कदम आगे चलकर कार्य करें तभी उस पर विजय प्राप्त की जा सकती है। उन्होंने डोर-टू-डोर सर्वे और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर जोर देते हुए कहा कि कोरोना के टेस्ट की संख्या को भी बढ़ाया आवश्यक है।

सीएम योगी ने कहा कि स्वयं का बचाव और दूसरों का बचाव करके ही इस जानलेवा बीमारी पर नियंत्रण किया जा सकता है। साथ ही बरेली के 300 बेड के अस्पताल को डेडिकेटेड कोविड अस्पताल का स्वरूप देने की बात कही। उन्होंने बरेली कलेक्ट्रेट स्थित कोरोना कंट्रोल रूम की तर्ज पर ही मंडल के अन्य जनपदों को भी अपने यहां नियंत्रण कक्ष को अपग्रेड करने के निर्देश दिए।

बड़ी खबर: शायर मुनव्वर राणा बोले-देश आज ‘भगवान राम’ का हिंदुस्तान नहीं है | ayodhya – News in Hindi

सीएम योगी ने कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। सर्वे कर के सभी का एंटीजेन टेस्ट होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि समय पर मरीज को एम्बुलेंस मिले और अस्पताल में उसकी समय से देख रेख हो, इसे सुनिश्चित किया जाए। बरेली मंडल में कोरोना से बचाव के लिए हो रहे कार्य पर सीएम य़ोगी ने संतोष व्यक्त किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सर्विलांस जितना सशक्त होगा, कोरोना को रोकना उतना ही आसान होगा और यह कार्य इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से किया जा सकता है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने उठाई आवाज कहा,  सभी बोर्ड के विद्यार्थियों की 4 माह की फीस माफ हो  

बरेली, शाहजहांपुर, बदायूं और पीलीभीत में कोविड से बचाव के लिए किए गए उपायों से सम्बंधित प्रेजेंटेशन का अवलोकन करने के पश्चात मुख्यमंत्री ने कहा कि अस्पताल के कर्मचारियों को अधिक से अधिक प्रशिक्षण देने की आवश्यकता है। साथ ही, नियमित अनुश्रवण भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि डॉक्टरों के साथ चिकित्सा क्षेत्र में कार्य करने वाले कर्मचारियों के लिए मास्क, ग्लव्स या पीपीई किट आदि की कमी नहीं है।

हाउस वाइफ बिना एक्सारसाइज किए घटा सकती हैं अपना वजन, अपनाने होंगे ये तरीके | health – News in Hindi

उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन की स्थिति में यह जरूर देखा जाए कि मरीज के लिए अलग बेड रूम और पृथक टॉयलेट है या नहीं। अलग से बेडरूम और टॉयलेट नहीं होने पर होम आइसोलेशन की सुविधा अनुमन्य नहीं है।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here