पीलिया के रोगी जरूर खाएं रसगुल्ला, इसके होंगे इतने फायदे | health – News in Hindi

0
56
.

रसगुल्ला (Rasgulla) कम कैलोरी वाली मिठाइयों में शामिल होने के साथ ही प्रोटीन (Protein) का बेहतरीन सोर्स भी है. इसलिए अगर आप मिठाई खाना पसंद करते हैं तो रसगुल्ला एक बढ़िया विकल्प हो सकता है. पीलिया (Jaundice) को कम करने में रसगुल्ला काफी मदद करता है.

रसगुल्ला (Rasgulla) कम कैलोरी वाली मिठाइयों में शामिल होने के साथ ही प्रोटीन (Protein) का बेहतरीन सोर्स भी है. इसलिए अगर आप मिठाई खाना पसंद करते हैं तो रसगुल्ला एक बढ़िया विकल्प हो सकता है. पीलिया (Jaundice) को कम करने में रसगुल्ला काफी मदद करता है.




  • Last Updated:
    August 11, 2020, 2:17 PM IST

अच्छे स्वास्थ्य के लिए अच्छी डाइट (Diet) लेना बहुत जरूरी है. डाइट में प्रोटीन (Protein) का होना बहुत जरूरी है क्योंकि शरीर में इससे नई कोशिकाओं का निर्माण होता है. प्रोटीनयुक्त खाद्य पदार्थों की बात की जाए तो रसगुल्ला (Rasagulla) भी प्रोटीन से भरपूर होता है. रसगुल्ला पसंदीदा मिठाई होने के साथ ही एक बेहतरीन प्रोटीन सोर्स भी है, इसलिए अगर आप मिठाई खाना पसंद करते हैं तो रसगुल्ला एक बढ़िया विकल्प हो सकता है.पीलिया (Jaundice) को कम करने में रसगुल्ला काफी मदद करता है. आइए जानते हैं रसगुल्ला खाने के फायदों के बारे में…

रसगुल्ले के गुण
myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला बताते हैं कि रसगुल्ला कम कैलोरी वाली मिठाइयों में शामिल है. 100 ग्राम रसगुल्ले में 153 कैलोरी कार्बोहाइड्रेट, 17 कैलोरी फैट और 16 कैलोरी प्रोटीन होता है. रसगुल्ला एनर्जी से भरपूर होता है. इसके अतिरिक्त रसगुल्ले में भरपूर लैक्टोएसिड और केसिन पाया जाता है, जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है.

पीलिया में लाभकारी होता है रसगुल्लाबहुत से लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि पीलिया में रसगुल्ला बहुत फायदेमंद होता है. जिस व्यक्ति को पीलिया है, यदि वह रोज सुबह एक रसगुल्ला खाएगा तो उसका पीलिया धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा.

आंखों का पीलापन दूर करता है
जिन लोगों की आंखें हमेशा पीली नजर आती है और आंखों में जलन की समस्या बनी रहती है. उनके लिए भी रसगुल्ला लाभदायक होता है. इसके लिए नियमित रूप से रोज एक रसगुल्ले का सेवन करें. आंखें अच्छी रहेंगी और आंखों का पीलापन कम होगा और जलन की समस्या भी दूर होगी.

कैल्शियम का अच्छा विकल्प है रसगुल्ला
रसगुल्ला दूध के छैने से बनता है. दूध के छैने में काफी मात्रा में कैल्शियम होता है. इसलिए रसगुल्ले के नियमित सेवन से हड्डियां भी मजबूत होती है. वहीं बुढ़ापे में हड्डियां घिस जाने या जोड़ों में दर्द होने जैसी समस्या भी नहीं रहती है.

यूरिन में जलन की समस्या नहीं होती
यूरिन में जलन की समस्या जिन लोगों को अधिकतर बनी रहती है. वे लोग भी यदि रोज रसगुल्ला खाते हैं, तो उनकी यह समस्या जल्द ही ठीक हो जाएगी. रसगुल्ला ठंडी तासीर का होता है.

गर्भवती के लिए भी होता है फायदेमंद
गर्भवती महिलाओं के शिशु का वजन बढ़ाने के लिए भी अक्सर गाइनोकोलोजिस्ट रसगुल्ला खाने की सलाह देते हैं, इसलिए गर्भवती महिलाओं को भी रोज रसगुल्ला खाना चाहिए. ऐसा माना जाता है कि रसगुल्ला खाने से गर्भवती महिलाओं की सेहत ठीक रहती है.

मांसपेशियों की मजबूती में सहायक
शरीर की मांसपेशियों को मजबूती देने में प्रोटीन सहायक होता है. ऐसे में प्रोटीन की पूर्ति के लिए रसगुल्ले का सेवन लाभप्रद होता है. इसके अतिरिक्त जो लोग व्यायाम करते हैं, उनके लिए भी प्रोटीन डाइट आवश्यक होती है. वे लोग भी रसगुल्ला खा सकते हैं.

रसगुल्ला खाएं तो इन बातों की रखें सावधानी

  • गर्भवती महिलाओं को रोज दो रसगुल्ले से ज्यादा का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे उन्हें डायबिटीज हो सकती है. रसगुल्ला खाने के बाद महिलाओं को रोज थोड़ा पैदल जरूर चलना चाहिए.
  • myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्त शुक्ला के अनुसार, डायबिटीज के रोगियों को विशेष रूप से रसगुल्ला नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इसमें मौजूद भरपूर कार्बोहाइड्रेट शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ता है, जिससे रक्त में शुगर लेवल बढ़ जाता है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, ये कम कैलोरी वाले स्वादिष्ट मीठे व्यंजन न केवल आपके मन को भाएंगे, बल्कि आपकी हेल्थ को भी नुकसान नहीं पहुचाएंगे पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here