PM मोदी ने कोविड-19 के दृष्टिगत राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉनफ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया

0
49
.

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड-19 के दृष्टिगत राज्यों के मुख्यमंत्रियों से आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया इस दौरान सभी ने अपने विचार रखे। इस दौरान उन्होंने कहा कि आज देश में प्रतिदिन टेस्टिंग की संख्या बढ़कर 7 लाख हो गई है। इससे संक्रमण को पहचानने और रोकने में मदद मिल रही है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत में एवरेज फैटेलिटी रेट पहले भी दुनिया के मुकाबले काफी कम था और यह लगातार कम हो रहा है। ऐक्टिव केस भी लगातार कम हो रहे हैं। इसका अर्थ है कि रिकवरी रेट बढ़ा है। उन्होंने कहा कि कोरोना को हराने के लिए हमारे प्रयास कारगर सिद्ध हो रहे हैं। इससे लोगों के बीच भरोसा और आत्मविश्वास बढ़ा है और डर कम हुआ है।

उन्होंने राज्यें के मुख्मंत्रियों से बात चीत के दौरान कहा कि हमें एक-दूसरे के अनुभवों से काफी कुछ सीखने-समझने को मिलता है। इससे जहां एक ओर जमीनी वस्तुस्थिति की जानकारी और व्यापक होती है, वहीं यह भी पता चलता है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

पीलिया के रोगी जरूर खाएं रसगुल्ला, इसके होंगे इतने फायदे | health – News in Hindi

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित 10 राज्यों के मुख्यमंत्रीगण उपस्थित थे। इनमें आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब, बिहार, गुजरात तथा तेलंगाना के मुख्यमंत्री शामिल हैं।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ कन्टेनमेंट, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और सर्विलान्स प्रभावी हथियार है। जनता इस बात को समझ रही है, लोग सहयोग कर रहे हैं। जनजागरूकता हमारी कोशिशों के अच्छे परिणाम की तरह है। उन्होंने कहा कि होम क्वारंटीन की व्यवस्था इसी वजह से आज इतने अच्छे तरीके से लागू हो पा रही है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि अगर शुरुआत के 72 घण्टों में ही केसेज की पहचान हो जाए तो, यह संक्रमण काफी हद तक धीमा हो जाता है।

मशहूर शायर राहत इंदौरी नहीं रहे, एक साथ तीन हार्ट अटैक के चलते हुआ निधन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज टेस्टिंग नेटवर्क के अलावा हमारे पास आरोग्य सेतु एप भी है। इसके माध्यम से हम कई काम आसानी से कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल में बेहतर मैनेजमेंट हो रहा है। इसी के साथ ही, आईसीयू बेड्स की संख्या बढ़ाने जैसे प्रयासों से भी काफी मदद मिली है। सभी राज्यों के अनुभवों का भी लाभ मिल रहा है। राज्यों में जमीनी हकीकत की निरन्तर निगरानी करके जो नतीजे पाए गए, सफलता का रास्ता उसी से बना है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि राज्यों के अनुभव की ताकत से देश कोरोना के विरुद्ध लड़ाई पूरी तरह से जीतेगा और एक नई शुरुआत होगी।

इस जन्माष्टमी श्री कृष्ण को लगाएं घर पर बनाए मथुरा के पेड़े का भोग

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here