श्री कृष्ण जन्माष्टमी से पहले ही वृन्दावन का ये प्रसिद्ध मंदिर किया गया सील, जानें क्या है वजह

0
11
.

मथुरा(Uttar Pradesh).  श्रीकृष्ण जन्माष्टमी से पहले वृंदावन के इस्कॉन मंदिर और इससे जुड़े आवासीय परिसर में 16 कोरोना संक्रमित मिलने से खलबली मच गई। प्रशासन ने मंदिर सहित संबंधित इलाके को सील करा दिया है। मंगलवार को सुंदर रोड पर गेस्ट हाउस के दो भवनों में भी आवागमन प्रतिबंधित करते हुए कोरोना संक्रमण संबंधी नोटिस चस्पा कर दिया गया। पिछले दिनों इंटरनेशनल संस्था इस्कॉन से जुड़े संत भक्तिचारु महाराज का निधन अमेरिका में हो गया था। उनका अंतिम संस्कार पश्चिम बंगाल में किया गया। इस दौरान उनके अंतिम दर्शन के लिए वृंदावन स्थित इस्कॉन मंदिर से कई लोग पश्चिम बंगाल गए थे। वहां से वृंदावन लौटने के बाद इन लोगों में दो लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। 

इस्कान मंदिर से जुड़े दो लोगों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सोमवार को इस्कॉन मंदिर के आवासीय परिसर में रह रहे 165 लोगों के नमूने लिए। इनमें अधिकांश विदेशी भक्त हैं। इनमें 14 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। जन्माष्टमी से पहले संस्थान में 16 कोरोना संक्रमित मरीज मिलने खलबली मच गई। हांलाकि इस संबंध में मंदिर प्रबंधन ने कुछ भी कहने से मना कर दिया है।

सील किया गया संक्रमित एरिया 
नगर निगम वृंदावन क्षेत्र के स्वच्छता निरीक्षक सुभाष सिंह ने बताया कि दो कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने की सूचना पर संबंधित आवासीय परिसर को सैनिटाइज किया गया। इसके साथ ही कोरोना संक्रमित व्यक्तियों से जुड़े ब्लॉक को सील कर दिया गया। नगर निगम की टीम ने आवासीय परिसर के ब्लॉक को सील करने के बाद सैनिटाइज किया। स्वास्थ्य विभाग के सहायक नोडल अधिकारी डॉ. मेघ श्याम गौतम ने बताया कि रमणरेती क्षेत्र में इस्कॉन संस्था से जुड़े आवासीय भवन में दो लोग पॉजिटिव मिलने के बाद सोमवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 165 लोगों के नमूने लिए थे। इनमें 14 और की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके बाद संबंधित क्षेत्र को सील कर दिया गया है।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here