प्रयागराज: ऑनलाइन सुंदरकांड और हनुमान चालीसा पढ़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड, गिनीज बुक में दर्ज | allahabad – News in Hindi

0
16
.

ऑनलाइन सुंदरकांड और हनुमान चालीसा पढ़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड (Guinness Book of World Record) की टीम ओर से इसे वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल किए जाने का प्रमाण पत्र भी सौंपा गया है.

प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में ऑनलाइन सुंदरकांड और हनुमान चालीसा के पाठ का अनोखा वर्ल्ड रिकॉर्ड (World Record) बना है. इस ऑनलाइन सुंदरकांड और हनुमान चालीसा के पाठ में 60 देशों के एक लाख लोगों ने एक साथ बगैर गीत संगीत के एक सुर में पाठ किया है. इसके जरिए लोगों ने देश और दुनिया में फैली वैश्विक महामारी कोरोना को खत्म करने की प्रार्थना की है. कोरोना महामारी से परेशान लोगों में मानसिक ताकत भरने के लिए खासतौर पर इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया.

प्रयागराज के संगम में बंधवा स्थित लेटे हनुमान मंदिर के छोटे महंत योग गुरु आनंद गिरी के मुताबिक अमेरिका कैलिफोर्निया की एक संस्था सिलिकॉन आंध्रा ने इस आयोजन को कराने की इच्छा जताई थी. जिसमें जूम ऐप के माध्यम से अलग अलग ग्रुप बनाकर दुनिया के साठ देशों के एक लाख लोगों को जोड़ा गया. इस कार्यक्रम में प्रयागराज से स्वामी आंनद गिरी भी जुड़े हुए थे. इस कार्यक्रम का आयोजन 15 अगस्त की रात साढ़े आठ बजे से शुरु किया गया जो रात साढ़े बारह बजे तक चला.

ये भी पढे़ं- UP: 20 अगस्त को होगी राम जन्मभूमि निर्माण ट्रस्ट की बैठक, दिल्ली रवाना हुए चंपत राय

इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के अधिकारी फिलिप्स ने अपनी टीम के साथ पूरा देखा और इसे गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल करने की घोषणा भी की है. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड की टीम ओर से इसे वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल किए जाने का प्रमाण पत्र भी सौंपा गया है. ऐसा दावा किया जा रहा है कि जूम ऐप से एक साथ कभी भी एक लाख लोग एक साथ नहीं जुड़े हैं. इसलिए जूम ऐप के लिए भी ये वर्ल्ड हो सकता है कि एक साथ एक लाख लोग जूम ऐप से एक समय में जुड़े हैं.60 देशों के एक लाख लोगों ने पढ़ा पाठ

इस आयोजन के जरिए 60 देशों के एक लाख लोगों ने एक साथ जुड़कर न केवल एक स्वर में सुंदरकांड और हनुमान चालीसा का पाठ किया है. बल्कि पूरी दुनिया को कोरोना की इस महामारी से छुटकारा मिले इसके लिए भी आरोग्य के देवता हनुमान जी से प्रार्थना की है. सनातन धर्म में हनुमान जी को आरोग्य का देवता माना गया है, कहते हैं कि हनुमान चालीसा में ऐसी शक्ति है जो कि आत्मबल को बढ़ाती है.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here