AMU में भड़काऊ भाषण देने के आरोपी डॉ. कफील पर रासुका 3 तीन महीने के लिए बढ़ी

0
26
.

अलीगढ़।  एएमयू में भड़काऊ भाषण देने के आरोपी डॉ. कफील खान पिछले छह महीने से राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत मथुरा जेल में बंद चल रहे हैं। डॉ. कफील खान पर रासुका तीन महीने तक के लिए बढ़ा दी गई है। आपको बता दें कि चार अगस्त को गृह विभाग के अनु सचिव विनय कुमार द्वारा जारी एक आदेश में कहा गया कि राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 की धारा 3 (2) के तहत कफील खान को 13 फरवरी 2020 को अलीगढ़ जिला मजिस्ट्रेट के आदेश पर निरुद्ध किया गया है।

JK: बारामूला में आतंकी हमला, CRPF के 2 और पुलिस का एक जवान शहीद

इससे पहले छह मई को रासुका के तहत तीन महीने और जेल में रखे जाने के आदेश दिए थे। प्रदेश सरकार ने जिला अधिकारी चंद्रभूषण सिंह से प्राप्त आख्या पर विचार करने के बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने अधिनियम की धारा 12 (1) के तहत अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए डॉक्टर कफील को निरुद्ध रखने की अवधि को तीन महीने और बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।बता दें कि अब वे 13 नवंबर तक जेल में रहेंगे।

कुशग्रहणी अमावस्या 18 अगस्त को, धार्मिक कामों में क्यों किया जाता है कुशा घास का उपयोग?

आदेश से आहत कफील खान की पत्नी डॉक्टर शबिस्ता खान ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी किया जिसमें उन्होंने कहा कि उनके पति को किस जुर्म की सजा दी जा रही है। जब कफील पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई थी तब भी उनका सरकार से यही सवाल था कि जो कार्रवाई डॉक्टर के खिलाफ की जा गई है उसका क्या आधार है। वह डॉक्टर जिसने मुश्किल वक्त में जगह-जगह देश के लोगों की सेवा की हो, उससे देश को क्या खतरा हो सकता है? उन्होंने कहा कि आज भी मेरा यही सवाल है कि कफील पर रासुका क्यों लगाया गया है।

UP के इस शहर से बांग्लादेश और पंजाब में हो रही है खास दवाईयों की तस्करी, STF ने किया खुलासा | agra – News in Hindi

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here