अखिलेश के नेता का COVID-19 पर अजीबोगरीब बयान, कोरोना को बताया BJP की साजिश | ayodhya – News in Hindi

0
20
.

समाजवादी पार्टी के पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी लोटन राम निषाद के कोरोना संक्रमण पर दिए बेतुके बयान का लोग मजाक उड़ा रहे हैं

समाजवादी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी लौटन राम निषाद (Chaudhary Lotan Ram Nishad) ने कहा कि कोरोना (COVID-19) एक महामारी नहीं बल्कि यह भारतीय जनता पार्टी (BJP) की साजिश है. लोगों की मौत कोरोना से नहीं बल्कि अन्य बीमारियों से हो रही है.

अयोध्या. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) और अन्य एहतियात बरतने की सलाह दे रहे हैं. वहीं उनके एक नेता का कोरोना पर दिया गया अजीबोगरीब बयान चर्चा में है. समाजवादी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी लौटन राम निषाद (Chaudhary Lotan Ram Nishad) ने कहा है कि कोरोना (COVID-19) एक महामारी नहीं बल्कि यह भारतीय जनता पार्टी (BJP) की साजिश है. लोगों की मौत कोरोना से नहीं बल्कि अन्य बीमारियों से हो रही है.

मंगलवार को प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों को नियुक्ति पत्र सौंपने अयोध्या पहुंचे चौधरी लोटन राम निषाद ने मीडिया से बात करते हुए कोविड-19 को एक बुखार की संज्ञा देते कहा कि यह वायरस बीजेपी की साजिश है. उन्होंने कहा कि यह (कोरोना वायरस) एक आम बीमारी है. यह आम बुखार की तरह है, वैसे भी सरकार अस्पताल में क्या दवा दे रही है केवल पेरासिटामोल और गर्म पानी. यह चीजें तो घर पर भी हो सकती हैं इसलिए लोगों को अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है.

चौधरी लोटन राम निषाद के बयान का लोग उड़ा रहे मजाक
एक ओर जहां उनकी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव इस महामारी से बचने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं और प्रदेश की जनता से यह अपील कर रहे हैं कि वो अपने घरों में सुरक्षित रहें. वहीं उनकी पार्टी के पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष का कोरोना के संदर्भ में दिए गए बयान का लोग खूब मजाक उड़ा रहे हैं.कोरोना वायरस की आड़ में प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए चौधरी लोटन राम निषाद क्या-क्या कह गए इसका शायद उन्हें भी एहसास नहीं हुआ. लेकिन कोरोना से मरने वालों की अखिलेश यादव ने कितनी और कब आर्थिक मदद की है यह जिक्र करना उन्हें बखूबी याद रहा.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here