Ganesh Chaturthi 2020: गणेश चतुर्थी पर इस शुभ मुहूर्त में स्थापित करें मूर्ति, भूलकर भी ना करें ये काम | mumbai – News in Hindi

0
41
.

गणेश चतुर्थी के दिन क्यों न करें चंद्रमा के दर्शन जानें (फोटो साभार: instagram/deerungruang)

गणेश चतुर्थी २०२० (Ganesh Chaturthi 2020 Date) : गणेश चतुर्थी पर कई लोग अपने घरों में गणेश भगवान की प्रतिमा बैठाते हैं और उसकी प्राण प्रतिष्ठा करते हैं.अनंत चतुर्दशी के दिन गणेश भगवान को विदाई दी जाती है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    August 18, 2020, 11:59 AM IST

गणेश चतुर्थी २०२० (Ganesh Chaturthi 2020 Date) : गणेश चतुर्थी का पर्व 22 अगस्त को है. गणेश चतुर्थी भारत में पूरे धूमधाम और गाजे-बाजे के साथ मनाया जाता है. गणेश चतुर्थी को विनायक चतुर्थी भी कहा जाता है. गणेश चतुर्थी पर गणेश भगवान की पूजा अर्चना की जाती है. महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश में गणेश चतुर्थी प्रमुखता के साथ मनाई जाती है. गणेश चतुर्थी पर कई लोग अपने घरों में गणेश भगवान की प्रतिमा बैठाते हैं और उसकी प्राण प्रतिष्ठा करते हैं. गणेश चतुर्थी तक रतजगा, गणेश भगवान के भजन, अखंड दीपक और पूजा-पाठ चलता है. अनंत चतुर्दशी के दिन गणेश भगवान को विदाई दी जाती है. इसी के साथ यह प्रार्थना भी की जाती है कि हे गणपति बाप्पा अगले साल जल्दी आना. कई लोग गणेश चतुर्थी के पर्व को दो सिन और कोई पूरे दस दिन तक मनाते हैं. इसे गणेश महोत्सव भी कहा जाता है:

इसे भी पढ़ें: Ganesh Chaturthi 2020: गणेश चतुर्थी कब है? जानें पौराणिक महत्व और गणेश पूजा का शुभ मुहूर्त
गणेश चतुर्थी शुभ मुहूर्त:
गणेश चतुर्थी 22 अगस्त 2020 को शनिवार के दिन है.गणेश चतुर्थी शाम 7:57 बजे तक है. हस्त नक्षत्र भी शाम 7:10 बजे तक है.
हिंदू धर्म शास्त्रों के मुताबिक़, चौघड़िया मुहूर्त बेहद शुभ प्रभाव पैदा करने वाला है.

हिंदू पंचांग के अनुसार 22 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 22 बजे से शाम 4 बजकर 48 बजे तक चर, लाभ और अमृत के चौघड़िया मुहूर्त हैं. इनमें से किसी भी समय आप गणेश भगवान की स्थापना कर सकते हैं.

गणेश जी को घर में स्थापित करने का शुभ मुहूर्त:

गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी की स्थपना हिंदी पंचांग के अनुसार करनी चाहिए. इसलिए चौघड़िया मुहूर्त में गणेश जी की स्थापना करें. चौघड़िया मुहूर्त काफी शुभ माना जाता है. चौघड़िया में चारों लग्न और स्थिति भी काफी शुभ दशा में होते हैं. इस दिन ध्यान रखने योग्य बात यह है कि भाद्रपद मास में शुक्ल पक्ष की द्वितीया को चंद्रमा के दर्शन करना शुभ नहीं माना गया है. यदि इसदिन भूलवश चंद्रमा के दर्शन हो भी जाएं तो इस दोष निवारण के दिन अगले दिन गरीबों को खाने की सफ़ेद चीजों का दान करना चाहिए. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here