अशोक गहलोत अब करेंगे मंत्रिमंडल विस्तार, जानिए किसे मिल सकती है कोन सी जगह?

0
18
.

राजस्थान। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायकट के बीच राजनीतिक तल्खियों के बाद कुछ विधायकों को मंत्री पद की उमीद दिखने लगी है। अब चूंकि दोनों एक बार फिर एक हो गए हैं तो ऐसे में कुछ विधायकों को सबसे ज्यादा खल भी गया है।

राजस्थान में भारी बारिश से बिगड़े हालात, 7 की मौत 80 लाख से ज्यादा प्रभावित

अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच चल रहे सियासी संग्रम के बाद अब गहलोत के आगे सबसे बड़ी चुनौती है कांग्रेस के सभी 124 विधायकों को एक साख रखना। इस एकजुटता को बनाए रखने की पहली परीक्षा प्रस्तावित मंत्रिमंडल विस्तार में होगी। आपको बता दें कि राष्ट्रीय नेतृत्व इस समस्या को पहले से समझकर 3 सदस्य समिति गठित कर चुका है। यह समिति मंत्रिमंडल विस्तार से लेकर ब्लॉक स्तर तक नई समितियों के गठन तक में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

सुशांत सिंह के भाई नीरज का बड़ा बयान, कहा-लगातार मिल रही धमकी, मुंबई पुलिस नहीं कर रही मदद

बताते चलें कि सियासी घमासान में खुद सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया गया है। मौजूदा मंत्रिमंडल में 22 सदस्य हैं। जबकि राज्य में 30 मंत्री बन सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल विस्तार में पायलट खेमा चाहता है कि उनके चार वरिष्ठ विधायकों को कैबिनेट मंत्री बनाया जाए। इस कतार में विश्वेंद्र और रमेश मीणा का नाम प्रमुख है। साथ ही पूर्व मंत्री हेमाराम चौधरी और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष दीपेंद्र सिंह शेखावत का नाम भी शामिल हैं। वहीं, दो विधायक राज्य मंत्री बनने की दौड़ में शामिल है।

Modi Government Gives Money To Open Jan Aushadhi Kendra, You Can Also Take Advantage, Know How-मोदी सरकार जन औषधि केंद्र खोलने के लिए देती है पैसा, आप भी उठा सकते हैं फायदा, जानिए कैसे

 

 

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here