सुशांत सिंह राजपूत: गणपति के साथ आघाड़ी सरकार का भी विसर्जन हो जाएगा- केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले – uddhav thackeray should come back in nda and form goverment with bjp in maharashtra

0
27
.

हाइलाइट्स:

  • केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले का बड़ा बयान
  • सुशांत सिंह मामले की सीबीआई जांच में स्वागत किया
  • उन्होने कहा कि एमवीए सरकार का विसर्जन बप्पा के साथ होगा
  • उद्धव ठाकरे को बीजेपी के साथ सरकार बनानी चाहिए
  • कांग्रेस- एनसीपी के विधायक हमारे संपर्क में है


सर्वोच्च न्यायालय द्वारा फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह मौत के मामले में सुनाए गए फैसले का केंद्रीय मंत्री और आरपीआई के मुखिया रामदास अठावले ने स्वागत किया है। उन्होंने कहा सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब सीबीआई इस मामले की तह तक जाएगी और जो सच है वह सबके सामने आएगा।

गणेश विसर्जन के साथ सरकार का भी विसर्जन हो जाएगा
रामदास अठावले ने कहा कि महाराष्ट्र में सत्ता पर काबिज महाविकास आघाडी सरकार के तीनों घटक दलों में कोई आपसी सुलह नहीं है। तीनों दल आपस में ही एक दूसरे को नीचा दिखाने में उलझे रहते हैं। इसलिए यह सरकार चलना मुश्किल है और बप्पा की विदाई के साथ महाराष्ट्र में इस सरकार की भी विदाई हो जाएगी।

दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई हो
रामदास अठावले ने कहा कि मुंबई पुलिस ने फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह की मौत के मामले में 2 महीने से ज्यादा का समय ले चुकी है। हालांकि इस जांच का अभी तक कोई भी नतीजा नहीं निकल पाया है। पूरे देश में सीबीआई जांच की उठ रही मांग बिल्कुल जायज है। ऐसा लग रहा है कि मुंबई पुलिस जरूर महाराष्ट्र सरकार के दबाव में काम कर रही है और सरकार किसी ना किसी को बचाना चाहती है। जो इस मामले में लिप्त है। इसलिए उन सभी दोषी पुलिस अधिकारियों और पुलिसकर्मियों पर भी कार्यवाही होनी चाहिए जो जानबूझकर मुंबई पुलिस की छवि को धूमिल होने दे रहे हैं। मुंबई पुलिस पूरी दुनिया में दूसरे नंबर की पुलिस मानी जाती है। ऐसे में इस प्रतिष्ठा को गिराना उचित नहीं है। अब तक मुंबई पुलिस ने ऐसे कई मामलों को भी सुलझाया है। जहां आरोपी कोई सुराग नहीं छोड़ता फिर भी मुंबई पुलिस आरोपी तक पहुंच जाती है।

शिवसेना को निमंत्रण
केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने नवभारत टाइम्स ऑनलाइन से बात करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी के पास 105 एमएलए के अलावा 10 इंडिपेंडेंट एमएलए का सपोर्ट है। हमें 30 अन्य विधायकों की जरूरत है। कई कांग्रेस और एनसीपी के नेता हमारे संपर्क में हैं। जो जल्द ही साथ में आ सकते हैं। ऐसे में शिवसेना को तय करना है कि वह बीजेपी के साथ आना चाहती है या फिर अलग रहना चाहती है। हमारी तरफ से शिवसेना को निमंत्रण है कि वह हमारे साथ मिलकर सरकार बनाएं और जनता द्वारा दिए गए मैंडेट का पालन करें। इस बारे में मैं खुद संसद के सत्र के दौरान शिवसेना नेताओं से बात करूंगा।

सरकार चलाना अलग है और सामना अलग
रामदास अठावले ने कोरोना के बढ़ते मामलों और मृत्यु दर को देखते हुए शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे को आड़े हाथों लेते हुए कहा की सामना अखबार चलाना अलग काम है और सरकार चलाना अलग। यह बात अब उद्धव ठाकरे को समझ में आ रही है। महाराष्ट्र और मुंबई की हालत काफी खराब हो चुकी है। कोरोना के मामले यहां रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। मृत्यु दर सबसे ज्यादा है। यह सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी है। उद्धव ठाकरे, कांग्रेस और एनसीपी को कोई काम नहीं करने देते और कांग्रेस, एनसीपी उद्धव ठाकरे के काम में अड़ंगा डालते रहते हैं। इस सरकार के पास एक दूसरे से उलझने के अलावा दूसरा कोई काम नहीं है।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here