कोविड के खिलाफ धारावी मॉडल हुआ ग्लोबल, क्यों और कैसे अपनाएगा फिलीपीन्स? | mumbai – News in Hindi

0
42
.
दुनिया की सबसे बड़ी झुग्गी बस्तियों (Largest Slums) में फिलीपीन्स के मनीला की स्लम (Manila Slum) का शुमार होता है, जहां 6 लाख से ज़्यादा की आबादी रहती है. दूसरी तरफ, एशिया (Largest Slum of Asia) की सबसे बड़ी स्लम मुंबई स्थित धारावी है, जहां 10 लाख से ज़्यादा लोग सिर्फ ढाई वर्ग किलोमीटर के दायरे में रहते हैं. धारावी पिछले कई दिनों से कोविड 19 के नये मामलों को बेहद कम (Dharavi Model against Covid-19) कर पाने के लिए चर्चा में है. और यह धारावी मॉडल अब फिलीपीन्स में भी लागू किया जाएगा.

हाल में, बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) ने कहा कि फिलीपीन्स सरकार के साथ ऐसे कई डिटेल्स साझा किए गए, जो धारावी में कोविड 19 को काबू करने के लिए किए गए प्रयासों से जुड़े हुए हैं, ताकि फिलीपीन्स की घनी स्लम में भी ये कारगर तरीके अपनाए जा सकें. कोरोना वायरस के खिलाफ धारावी मॉडल के बारे में न्यूज़18 ने बताया था. अब जानिए कैसे फिलीपीन्स में पहुंच रहा है धारावी मॉडल और आंकड़े क्या कह रहे हैं.

बीएमसी के साथ ही, फिलीपीन्स के स्वास्थ्य विभाग के हवाले से इन्क्वायरर की रिपोर्ट में कहा गया कि फिलीपीन्स बीएमसी के उपायुक्त किरण दिघावकर के नेतृत्व में धारावी में चले कोरोना के खिलाफ अभियान के रास्ते पर चलेगा. अब ये बात भी दिलचस्पी पैदा करती है कि दोनों देशों के ताज़ा आंकड़े क्या कह रहे हैं.

बुधवार को 13165 नए केस आने के बाद महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के कुल केसों की संख्या 6 लाख 28 हज़ार से ज़्यादा हो गई. अगस्त महीने के 19 दिनों में राज्य में 2 लाख नए केस जुड़े हैं, जिनमें से 19331 केस मुंबई में जुड़े. महाराष्ट्र में अब तक कोविड केसों में 20687 मौतें हो चुकी हैं. दूसरी तरफ, पूरे देश के आंकड़े देखें तो कुल केस करीब साढ़े 28 लाख हो गए हैं और मौतों की संख्या 54 हज़ार के करीब है.ये भी पढ़ें :- अब तक कैसे रहे हैं भारत और तुर्की के रिश्ते, 10 अहम पड़ावों को समझें

धारावी में फीवर कैंपों का प्रयोग काफी सफल रहा. फाइल फोटो.

मुंबई, धारावी और फिलीपीन्स के आंकड़े
मुंबई में, 1132 नए केस और 46 मौतों के बाद यहां कुल कोरोना केसों की संख्या 1,31,542 और मौतों की संख्या 7268 हो गई है. मुंबई में फिलहाल करीब 18 हज़ार एक्टिव केस हैं. वहीं, धारावी में पिछले पूरे हफ्ते में किसी भी दिन 9 से ज़्यादा नए केस नहीं मिले. जबकि मई के महीने में जब संक्रमण यहां पीक पर था, रोज़ाना दर्जनों नए केस सामने आ रहे थे.

बीते 3 मई को एक दिन में सबसे ज़्यादा 94 नए केस सामने आए थे. मिड डे की रिपोर्ट की मानें तो धारावी में कोविड 19 के कुल केस 2670 से ज़्यादा हो चुके हैं, हालांकि एक्टिव केस सिर्फ 80 के आसपास हैं. धारावी में केसों के दोगुने होने की गति 269 दिनों की हो गई है और ग्रोथ रेट 0.27%, जबकि पीक के समय यहां ग्रोथ रेट 4.8% तक थी.

ये भी पढ़ें :-

कौन हैं शाहीन बाग के शहजाद अली, जो बीजेपी ज्वाइन करने से चर्चा में हैं

आखिर क्या वजह है, जो चीन क्रूरता से उइगर मुसलमानों को रौंद रहा है

फिलीपीन्स 2.98 लाख वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला 10 करोड़ से कुछ ज़्यादा आबादी वाला देश है. इसका मतलब यह है कि 3.07 लाख वर्ग किमी में फैले 11.5 करोड़ की आबादी वाले महाराष्ट्र से कुछ छोटा है. फिलहाल कोरोना के मीटर के हिसाब से दुनिया में 22वें नंबर पर फिलीपीन्स है, जहां कुल केस 1 लाख 70 हज़ार के आसपास हैं और 2687 से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं. अब यहां की घनी ​बस्तियों में धारावी मॉडल अपनाया जाएगा.

ये भी पढ़ें :- Covid-19 के खिलाफ क्या है वो ‘धारावी मॉडल’, जिसे WHO ने माना मिसाल

फिलीपीन्स की मदद और…
9 वर्गमीटर के दायरे में आठ से दस लोग जहां रहते हैं, उस घनी बस्ती धारावी में ज़्यादा से ज़्यादा टेस्टिंग, संस्थागत क्वारंटाइन सुविधा, हाई रिस्क व लो रिस्क क्वारंटाइन अलग अलग, समय से इलाज के साथ ही फीवर कैंप, डोर टू डोर सर्वे और प्राइवेट स्वास्थ्य सेक्टर की भरपूर मदद से मरीज़ों की पहचान करने जैसे कदम उठाकर कोविड 19 पर काबू पाने में कामयाबी हासिल की गई.

अब फिलीपीन्स सरकार धारावी में उठाए गए कदमों से सबक लेकर अपनी घनी फैली बस्तियों में कोविड 19 पर काबू पाने की कोशिश करने जा रहा है. हालांकि फिलीपीन्स से पहले धारावी मॉडल का चेहरा बने दिघावकर से बेंगलूरु, हैदराबाद और कोल्हापुर जैसे शहर भी मार्गदर्शन ले चुके हैं. वहीं, बीएमसी का कहना है कि धारावी और मुंबई ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में दुनिया को राह दिखाई है. और बीएमसी का यह दावा भी गौरतलब है कि मुंबई में अब साढ़े सात हज़ार से ज़्यादा कोविड बिस्तर खाली हैं.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here